• Latest News

    Gharelu Upchar. Blogger द्वारा संचालित.
    बुधवार, 28 अक्तूबर 2015

    Sexual Disease-Impotency (नपुंसकता, वीर्य,मर्दाना ताकत) Gharelu Treatment Hindi

    Napunsakta - Gupt Rog



     यौन-रोग :मर्दाना शक्ति बढ़ाने के लिए घरेलू  उपचार

    What is impotency?Impotency Definition in hindi

    यौन-ज्ञान के अभाव में यौन-रोग दिन-प्रतिदिन तेजी से बढ़ते जा रहे हैं। यौन-रोगों का प्रारम्भ युवावस्था के प्रारम्भ मेें 12 साल की आयु से ही होने लगता है और यौवन की परिपक्वावस्था 25.30 वर्ष की आयु तक पहुँचते- पहुँचते तो युवक हताष, निराष हो जाते हैं। यह कहानी हजारों युवकों की मेरे पास है। यौन-रोगों का मूल कारण जो मेरे चिकित्सालय में मिला है, वह है हस्तमैथुन । बचपन में ही मूत्र-अंग को अपने हाथों से रगड़ कर ऐसा कमजोर बना लेते हैं कि आगे जाकर विवाहित जीवन दुखःमय बन जाता है। बुरी संगत से होने वाले इस रोग के आगे स्वपन दोष अर्थात् स्वपन में रमणीक दृष्य से वीर्यस्त्राव होकर कपड़े गीले होना, वीर्य पतला हो जाना जिससे विवाह होने पर शीघ्र निकल जाने से नपुंसकता  नामर्दी उत्पन्न हो जाती है। ये रोग गोपनीय होने से चिकित्सक को बता नहीं पाने और बाजीकरण की औषधियों, सेक्स विज्ञापनों के चक्कर में फँसकर युवक सारा स्वास्थ व जीवन नरक समान बना लेते हैं। सभी कामवर्द्धक, वीर्यस्तम्भक दवाइयाँ नषीले पदार्थों, भाँग, अफीम आदि से युक्त होती हैं जो विषय-भोगों में अधिक प्रवृत्त करके स्वास्थ्य को नष्ट करती हुई अनेक विकार उत्पन्न करती हैं। प्रत्येक युवक को याद रखना चाहिए कि बनावटीपन से कोई कार्य सफल नहीं होगा। प्राकृतिक चीजों के सेवन से ही आरोग्यता की ओर बढ़ते हुए यौन-रोगों से मुक्त हो सकेंगे।
        अपनी धर्मपत्नी के अतिरिक्त स्त्री से संसर्ग रखने से यौन-रोग होते हैं। ये रोग घृणास्पद हैं। जो व्यक्ति यौन रोगी को देखता है, उसे मालूम पड़ जाता है कि अमुक व्यक्ति यौन रोग से ग्रस्त है और वह उससे घृणा करने लगता है। यौन-रोग-ग्रस्त व्यक्ति धीरे-धीरे जीवन में निराष होता हुआ मौत के दरवाजे पर पहुँच जाता है। यौन रोग से बचना व दूसरों को बचाना सर्वोत्तम पुण्य-कर्म है तथा सुन्दर स्वस्थ समाज बनाये रखने का आधारभूत कार्य है। यहाँ बताये यौन रोगों का परिचय प्राप्त कर उचित चिकित्सा द्वारा नव-जीवन प्राप्त करें व भविष्य में यौन-दुष्कर्म कभी नहीं करें। 


    NAPUNSAKTA (IMPOTENCY) ke Karan-


    Hastmethun(हस्तमैथुन)or Hand pratice, sitri sahvas(Women sex), chota ling(लिंग), sharir me charbi badhna, sex karne se dar, bhut lambi bimari, andkhosh(अण्डकोष) ka chota hona, andkosh ke rog aadi ki vajah se, bahumutra ya bhut jada peshab ana, harniya(हर्निया) ki bimari, bhut jada sharab(शराब) pina, bhut jada afeem khana  NAPUNSAKTA(IMPOTENCY)  hone ki vajh ho skti hai.

     नपुंसकता- Impotency शीघ्रपतन Mardana Kamjori कारण Hindi 

    Causes of impotency शीघ्रपतन Mardana Kamjori Hindi

    नपुंसकता के मुख्यतः दो कारण हैं- शारीरिक और मानसिक। शारीरिक नपुंसकता की चर्चा हम बाद में करेंगे। पहले इसके मानसिक कारणों पर विचार करते हैं। आधुनिक युग में मनुष्य चिंता और तनाव में अधिक जीता है। कई बार संभोग के संपादन के समय भी वह इन बेकार की चिंताओं से मुक्त नहीं हो पाता। ऐसी अवस्था में जब संभोग किया जाता है, तो या तो षिष्न में वांछित दृढ़ता नहीं आ पाती या अगर आती भी है तो वह अवस्था क्षणिक होती है और व्यक्ति शीघ्रपतन का षिकार हो जाता है। षिष्न में पूर्ण दृढ़ता के लिये नसें, रक्त प्रवाह की धमनियों और षिराओं, हार्मोन्स, माँसपेषियों तथा मस्तिष्क-इन सबका एक सुर और ताल में कार्य करना जरुरी है। किसी एक का भी सुर बिगड़ा नहीं कि संभोग का संगीत बेसुरा हो जाता है। आपके सहयोगी का भी संभोग के लिये तैयार होना जरुरी है। अगर आप तैयार हैं और वह तैयार नहीं है तो भी आपके सुर-ताल में गड़बड़ आ सकती है क्योंकि संभोग का शाब्दिक अर्थ ही है- सम़भोग अर्थात् जिसे दोनों ने समान रुप से भोगा हो। दोनों की मानसिक तैयारी के अलावा वातावरण भी आवष्यक है। अगर एकांत नहीं है, देखने या सुनने का भय है, किसी तरह की आहट हो रही है, तो भी संभोग के सुख में कमी आ सकती है। कई बार मानसिक तनाव या चिंता की अवस्था में व्यक्ति संभोग का प्रयास करता है और जब उसमें उसे पूरी सफलता नहीं मिल पाती तो एक नई चिंता उसे घेर लेती है। वह नपुंसकता के अज्ञात भय से पीड़ित हो जाता है और फिर इसका एक सिलसिला-सा चल पड़ता है। जब भी संभोग का प्रयास करता है यह अज्ञात भय उस पर हावी होने लगता हैकि मुझे सफलता मिलेगी या नहीं। इस तरह के विचार उसे घेर लेते हैं और उसकी परिणति होती है शीघ्रपतन या नपुंसकता में। इस वजह से षिष्न में पर्याप्त दृढ़ता नहीं आ पाती। हमारे शरीर की रचना प्रकृति का सबसे बड़ा कमाल है। षिष्न में स्पंज जैसी दो नलिकायें होती हैं। जब हम संभोग के लिए स्वयं को तैयार पाते हैं तो इन नलिकाओं की ओर रक्तप्रवाह बढ़ता है और ये रक्त से भर जाती हैं। इसके परिणाम स्वरुप ही षिष्न में दृढ़ता आती है। लेकिन इस दृढ़ता के लिए जैसा कि ऊपर बताया जा चुका है सभी सुरों का एक लय में होना आवष्यक है।  यह तो हुआ नपुंसकता का मानसिक कारण। अब शारीरिक कारणों पर चर्चा कर ली जाए। रात को इन्द्रिय में सोते वक्त परिवर्तन की जानकारी रक्त प्रवाह की जानकारी 

    NAPUNSAKTA (IMPOTENCY) ke Lashan-

    Napunsakta

     Virya (वीर्य) banne ki Shakti kaam ho jati hai ya banta hi nhi hai aur zara hi excitement se hi virya nikal jata hai aadi is rog ke Lashan hai. Patient ke private part me weakness ane ki vajh se woman ya girl se sex karne me dar mahsus karte hai. Agar vo sex karne ki himat kar bhi lete hai to unka virya jaldi nikla jata hai. Body se pashina ane lagta hai. Aur unke body ke private part thik thang se excited bhi nhi hote hai aur virya nikal jata hai aur unko maja bhi ata hai. Napunsakta(Impotency) me patient bhut jada dukhi rahta hai. Is karan sir me dard, heat beat badh jati hai, khaya-piya hajam nhi hota hai aur kabhi kabhi raat ko need bhi nhi ati hai.

    नपुंसकता का इलाज- नपुंसकता का इलाज इस बात पर निर्भर करता है कि नपुंसकता का कारण क्या है ? फिर उसी के अनुसार चिकित्सा की जाए।

    Cause of impotency  शीघ्रपतन Mardana Kamjori Hindi

    धूम्रपान- अधेड़ उम्र में धूम्रपान, चर्बीयुक्त भोजन करने से नपुंसकता आ जाती है। 
    सिगरेट- यौन शक्ति पर विपरीत प्रभावः जयपुर 1.1.1980 ;का0प्र0द्ध डाॅ0 वीरेन्द्र सिंह चर्म व यौन रोग विषेषज्ञ ने सिद्ध किया है कि नियमित रुप से 10 सिगरेट या अधिक 6.12 माह तक पीने से यौनषक्ति में कमी हो जाती है।
    धूम्रपान सिगरेटविष्वविख्यात चिकित्सक एवं यौन शास्त्री डाॅ0 इर्षफील्ड के अनुसार अत्यधिक धूम्रपान पुरुषांे के यौन क्रिया-कलापों पर घातक प्रभाव डालता है। इन्होने अपनी पुस्तक ‘सेक्सुअल पैथालोजी’ में लिखा है कि अत्यधिक धूम्रपान नपुंसकता का कारण बन सकता है। इससे शरीर में स्थित यौन हारमोन उचित क्रिया नहीं कर सकते। 

    वीर्य एवं यौन शक्ति बढ़ाने वाले नुस्खे: Sambhog shakti badhane ke ayurvedic upay

    (1-) Gupt rog ka desi ilaj-  आम- दो-तीन माह आम का अमरस पीने से मर्दाना ताकत आती है। शरीर की कमजोरी दूर होती है। शरीर मोटा होता है। वात संस्थान  और काम शक्ति को उत्तेजना मिलती है। 
    (2-)  Gupt rog solution in hindi - नारियल- नारियल कामोत्तेजक है। वीर्य को गाढ़ा करता है। 
    गाजर- गाजर हर व्यक्ति के लिए शक्तिवर्धक ;ज्वदपबद्ध है। वीर्य को गाढ़ा करती है। मर्दाना कमजोरी को दूर करने में रामबाण है। गाजर का रस पीना चाहिए।
    (3-)  Gupt rog ka desi ilaj hindi me - प्याज- प्याज कामवासना को जगाता है। वीर्य को उत्पन्न करता है। देर मैथुन करने की शक्ति देता है। ईरानी नागरिक याह्या अली अकबर बेग नूरी ने 88 वर्ष की आयु में 168 वाँ विवाह किया। इस आयु तक उसकी जवानी बरकरार रहने का कारण है, उसका एक किलो कच्चा प्याज खाना। 
    (4-) Gupt rog treatment -  चिलगोजे- यह अत्यधिक मर्दाना शक्तिवर्द्धक है। यह 15 नित्य खायें।     
    (5-) Gupt rog ka ilaj hindi me - शहद- शहद और दूध मिलाकर पीने से धातु क्षय में लाभ होता है। शरीर में बल-वीर्य की वृद्धि होती है। शुक्र-वर्द्धक है। मर्दाना ताकत बढ़ाने के लिए यह अत्यन्त लाभदायक है। इससे वीर्य दोष भी दूर हो जाता है। 
    (6-) Gupt rog upchar in hindi -  तुलसी- तुलसी की जड़ या बीज चैथाई चम्मच, पान में रख कर खाने से शीघ्र-पतन दूर होता है। देर तक रुकावट आती है। वीर्य पुष्ट होता है। 
    (7-) Gupt rog ka ayurvedic ilaj in hindi -  उड़द- उड़द का एक लड्डू खाकर ऊपर से दूध पीने से वीर्य बढ़कर धातु पुष्ट होती है और रतिषक्ति बढ़ती है। 
    (8-) Gupt rog in hindi - दूध- प्रातः नाष्ते में एक केला, 10 ग्राम देषी घी के साथ खाकर ऊपर से दूध पीयें।      
    (9-) Gupt rog ilaj - मर्दाना शक्ति बढ़ाने के लिए प्याज का रस और शहद मिलाकर पियें। सफेद प्याज का रस, शहद, अदरक का रस, देषी घी, प्रत्येक 6 ग्राम- इन चारों को मिलाकर चाटें। एक महीने के सेवन से नामर्द भी मर्द बन सकते हैं।

    Ayurvedic Treatment For NAPUNSAKTA (IMPOTENCY) Ka Desi Illaj-

    (1-) Gupt rog -   Subh ke naste me 2 chuhare(छुहारे) aur 10 kismiss (किसमिस) pani(पानी) me ubal le aur 2 chammach (चम्मच) shehad (शहद) me daalkar khaye. Aur rat me bheegi hui bdam(बदाम ) ki giri ko danto se chaba chaba kar malai ki tarh muh me balna le aur sath hi sath halka garm-garm dhudh piye isse apka viry(वीर्य) banega aur apki Importany ya namardi bhi khatm ho jayegi apki Mardana Shakti bhi vapas ayegi.
    (2-) Gupt rog ki dawa hindi me -   Shatavari(शतावरी), musli( मूसली), konch(कोंच) ke beej, gokharu(गोखरू), asagandha(असगंध) – Sabhi ko barabar quantity me lekar kut(कूट) pees le aur kapde me chaan le aur 5 garm is chran ko garm dudh ke sath le isse Napunsakta(Impotency) bilkul khatm ho jayrgi.Ye desi illaj bhut fayda karta hai.
    (3-) Gupt rog ka ilaj -  Napunsakta (Impotency)  me kali musli( मूसली ke churan ko bhas( भैस) ke ghee me milakar khaye bhut jada fayda hoga namardi me .
    (4-) Gupt rog ka ilaj hindi -  Aam ki manjri ko chaya me sukha le aur iska churan bana le 3 gram fak k halke garm milk piye. Isse apka virya gadha hoga aur sex-power bhi badhegi aur sath me sex karne time period bhi badhega
    (5-) Gupt rogo ka ilaj - Safed kaneer ki paki hui fali ke bitar se nikle huye beejo ka peeskar churan bana le aur 1st day 1 gram churan  ko makhan ke sath khaye . 2nd  day 1.5 gram churan ko makhan se sath khaye. 3rd day 2 gram chran makhan ke sath khaye. Is trah .5 gram roj badhye aur usko 7 din tak le aur agr khane me sukha lage to ise garm dhudh ke le. Is Ayurvedic Nuskhe se NAPUNSAKTA(IMPOTENCY) ke dum khatm ho jayegi.
    (6-) Gupt rog medicine - Muli ke beej 100 gram lekar iska churan bana le aur 5 gram roj le makhan yam alai ya halka garm dudh ke sath lekin 5 gram muli ke churan ko subh aur sham ko le isse apki Napunsakta(Impotency) dur ho jayegi.
    (7-) Gupt rog ka ilaj in hindi - Muli le beejo ko tel me gram karke apne ling me malish karne se naro me jaan ayegi aur aur imprtency dur ho jayegi lekin upper diye Ayurvedic desi illaj me koi ek apnakar is is nuskhe ko  sath me try kariye yakeen maniye apko vigra khane koi jarurat  nhi padegi. Marji ho sare Ayurvedi illaj apnaiye koi side effect nhi hoga.
    (8-) Gupt rog upchar - Apne ho skta kabutar khaye ho pr mai aj beet ke desi illaj batne jar aha hu ap thoda sendha namak le aur kabutar ke beet aur jaurat ke hisab se sahad le aur is sab ko  achi tarh mila le usko apne ling me malish kare aur 1 ghanta bad gram pani se dhul le aisha karne se apka ling mota ho apko  kisi mahge mahge jaise  ye oil vo  oil japani oil afgani oil lene koi need nhi padegi iska desi nuskhe ka koi side effect nhi hai bhai.
    (9-)  Gupt rog ka elaj - Dhatura, shahed, kapoor aur para is sab  ko peeskar  ling par lep laga le isse apka ling mota jayega. Aur sath hi ling ki lambai bhi badh jayegi.
    (10-) Gupt rog ke upay in hindi - Shatavari ka churan 15 gram, safed musli ka churan 15 gram, mulethi ka churan 12 gram, asvgandha nagori ka churan 15 gram aur akarkara ka churan 3 gram is sab ko ek sath milakar ek churan bana le phir 5-5 gram ki pudiya bana le aur roj subh 5 gram ki churan ki pudiya fak kar  upar se garm doodh piye. Napunsakta(Impotency) ke is Ayurvedic illaj ko 1 mahine tak kare isse apki mardan Kamjori dur ho jayegi.

    (11-) Gupt rog ka ayurvedic ilaj - 2-3 mahine sham ke doudh me amras banakar peene se mardana takat vapass aa jati hai.
    (12-) Gupt rog ki dawa - Daily meetha anar khane se ya uska juice pine se guptango me jaan aa jati hai hai.
    (13-) Gupt rog hindi - Daily gajar ko kisi bhi rup me khane se mardana Shakti aati hai viry gadha bhi hota hai.
    (14-) Gupt rogo ka ilaj in hindi - Aak ke phoolo ko kut peeskar adha litre ras nikal le aur 250 gram aak ke doudh ko  1 kilo desi ghee me pakye par isko dhemi  aag me pakaye jisse pani jal jaye aur isko cow ya buffalo ke milk me  3 spoon mila kar piye. Is nuskhe apki mardana Shakti paka vapass jayegi aur sath hi sex power bhut jada badegi.
    (15-) Guptrog hindi - Agr ap aak ke leaves ka raas nakal  ne me problem hoti hai to ap 1 kg desi ghee me aak ke leaves ko pudi ki tarh tal le aur in fry ki leaves ko ek uppar uppar ek rakhe jab jo bacha hua desi ghee (pan me bacha hua)  usko  botal me bhar le aur ek chamach  khane me milkar khaye ,paka apki khoi hui javani vapaas aa jayegi.
    TAG-
    Napunsakta meaning Impotency, Sexual Disease-Impotency  Namardi Ka Gharelu upchar, Mardana Shakati badhne ke gharelu upchar, Mardana Kamjori,  Sambhog shakti, namardi ka desi illaj, gharelu upchar, ayurvedic treatment hindi, remedies for napunsakta| napunsakta ka gharelu ilaj| napunsakta ka gharelu upchar| napunsakta ka gharelu upay| napunsakta ke gharelu upchar|napunsakta ka gharelu ilaj in hindi| napunsakta ka ilaj,upchar, upay in hindi| napunsakta treatment in hindi| napunsakta meaning in hindi- Impotency
    napunsakta ka treatment in hindi| napunsakta ka ayurvedic ilaj| napunsakta ka kya hai ilaj in hindi|
    napunsakta ka karan dawa, upchar| napunsakta ke lakshan| napunsakta ke upay in hindi


    • Blogger Comments
    • Facebook Comments
    Item Reviewed: Sexual Disease-Impotency (नपुंसकता, वीर्य,मर्दाना ताकत) Gharelu Treatment Hindi Rating: 5 Reviewed By: Gharelu Upay
    loading...
    Scroll to Top