• Latest News

    Gharelu Upchar. Blogger द्वारा संचालित.
    सोमवार, 30 नवंबर 2015

    Shighrapatan ayurvedic gharelu upchar

    tag- Shighrapatan, shighrapatan ka desi ilaj in hindi, shighrapatan yoga, shighrapatan ka desi ilaj, shighrapatan ka ilaj, shighrapatan ka gharelu upchar in hindi, shighrapatan ke upay, shighrapatan ke gharelu upay in hindi, shighrapatan ka gharelu ilaj, shighrapatan ki desi dawa, sighrapatan,
    shighrapatan ka gharelu ilaj in hindi, Sigrapatan, shighrapatan rokne ke gharelu upay in hindi, sheeghra patan, shighrapatan hindi, shighrapatan ka ayurvedic ilaj in hindi, sigharpatan, shighrapatan ki dawa hindi me, shighrapatan rokne ki dawa, shighrapatan ka ilaj in hindi, shighrapatan ki dawa, shighrapatan ke lakshan, shighrapatan ke upay hindi, shighrapatan ke desi nuskhe

     Early Fall Hindi meaning - शीघ्रपतन

    शीघ्रपतन का अंग्रेजी में मतलब Early Fall

    What is Early Fall(Hindi)?

    शीघ्रपतन क्या है ? Shighrapatan kya hota hai ?

    शीघ्र  वीर्य निकल  जाने को शीघ्रपतन Shighrapatan या Early Fall कहते हैं। सेक्स Sex के मामले में यह शब्द वीर्य के स्खलन के लिए प्रयोग किया जाता है। शीघ्र  वीर्य निकल  जाने को शीघ्रपतन कहते हैं। सेक्स के मामले में यह शब्द वीर्य के स्खलन के लिए प्रयोग किया जाता है। पुरुष की इच्छा के विरुद्ध उसका वीर्य अचानक निकल जाए,और स्त्री सहवास करते हुए संभोग शुरू करते ही वीर्यपात हो जाए या तुरंत निकल जाये और पुरुष न चाहकर भी वीर्य निकलने को न रोक पाये , अधबीच में अचानक ही स्त्री को संतुष्टि व तृप्ति प्राप्त होने से पहले ही पुरुष का वीर्य स्खलित हो जाना या निकल जाना, इसे शीघ्रपतन होना कहते हैं। इस व्याधि का संबंध स्त्री से नहीं होता, पुरुष से ही होता है और यह व्याधि सिर्फ पुरुष को ही होती है।
                                    इंटरकोर्स शुरू होने से 60 सैकंड के भीतर ही अगर किसी पुरूष का वीर्य-स्खलन हो जाता है तो इसे शीघ्र-पतन Shighrapatan या Early Fall  ( Premature Ejaculation) कहा जायेगा। इंटरनेशनल सोसाइटी ऑफ सैक्सुयल मैडीकल के विशेषज्ञों ने पहली बार इस शीघ्र-पतन की पारिभाषित किया है रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि विश्व भर में 30 फीसदी पुरूष इस यौन-व्याधि (Sexual disorder) से परेशान हैं।
                                                 शीघ्र पतन की सबसे खराब स्थिति यह होती है कि सम्भोग क्रिया शुरू होते ही या होने से पहले ही वीर्यपात हो जाता है। सम्भोग की समयावधि कितनी होनी चाहिए यानी कितनी देर तक वीर्यपात नहीं होना चाहिए, इसका कोई निश्चित मापदण्ड नहीं है। यह प्रत्येक व्यक्ति की मानसिक एवं शारीरिक स्थिति पर निर्भर होता है। सेक्‍स के दौरान कुछ देर तक लंबी सांस जरूर लें। यह प्रक्रिया शरीर को अतिरिक्‍त ऊर्जा प्रदान करती है। आपको मालूम होना चाहिए कि एक बार के सेक्स में करीब 400 से 500 कैलोरी तक ऊर्जा की खपत होती है। इसलिए अगर संभव हो सके तो बीच-बीच में त्‍वरित ऊर्जा देने वाले तरल पदार्थ जैसे ग्लूकोज, जूस, दूध आदि का सेवन कर सकते हैं। इसके अलावा आपसी बातचीत भी आपको स्थायित्व दे सकता है। ध्‍यान रखें, संभोग के दौरान इशारे में बात न करके सहज रूप से बात करें।

    शीघ्र पतन जल्दी ना (Shighrapatan jaldi Na Ho )

    शीघ्र पतन जल्दी ना हो इसके लिए कुछ बातो का ध्यान रखना चाहिए-

    Shighrapatan me in chaar bato ka Rahe Dhayan -


      (1) एक उचित जगह का चुनाव - सेक्स करने के लिए उचित समय और उचित प्लेस का चयन करे. ऐसी स्थान का चयन करे जहा आपको कोई डिस्टर्बेन्स ना हो और आप पूरी तरह से कंफर्टबल हो और सुकून से सेक्सुअल लाइफ का मजा ले सके . 
    (2) आप जल्दी में ना रहे- अपने पार्ट्नर के साथ सेक्स करने के लिए जल्दी ना मचाए. सेक्स करते समय मन  मे किसी भी तरह का भय, चिंता और घबराहट नही होना चाहिए इससे आपका ही वीर्य निकल जायेगा
     (3) अपने साथी को पहले सुकून कम्फ़र्टेबल महसूस कराये - सेक्स करने से पहले अपने पार्ट्नर को उत्तेजित करने मे ज़्यादा समय लगाए. यह ध्यान रखे की फीमेल्स को उत्तेजित होने मे मेल्स से ज़्यादा टाइम लगता है।
    (4) लगातार सेक्स न करे - लगातार सेक्स ना करे, बीच बीच मे रुके और फिर शुरू करे. रुकने के दौरान अपने पार्ट्नर से बाते करे, उसे किस करे और उसके नाज़ुक अंगो को सहलाए।
     अगर आपको डाइयबिटीस है तो उसे कंट्रोल करे साथ ही आल्कोहॉल का सेवन कम करे. याद रहे आल्कोहॉल का ज़्यादा सेवन, आपकी सेक्स लाइफ बर्बाद कर सकता है।
    Early Fall or Premature Ejaculation Causes Hindi

    Shighrapatan ke karan 

    शीघ्र पतन के कारण
     शीघ्र पतन के मुख्यतः दो कारण हैं- 
    (1) शारीरिक और
    (2) मानसिक कारण 
    शारीरिक कारण शीघ्र पतन

    Shighrapatan ke Sharirik Karan

     शारीरिक कारण को दूर करने का आयुर्वेदिक इलाज मै नीचे लिख रहा हूँ हा बस मिर्च शराब मसाले दार चीज़ो से ज्यादा नही  तो थोड़ा परहेज करना चाहिए
    मानसिक कारण शीघ्र पतन -

    Shighrapatan Mansik Karan

     वर्तमान समय में मनुष्य चिंता और तनाव में अधिक जीता है। कई बार संभोग के करने के समय भी वह बेकार की चिंताओं से मुक्त नहीं हो पाता। ऐसी अवस्था में जब संभोग किया जाता है, तो ना कामुकता  में वांछित दृढ़ता नहीं आ पाती या अगर आती भी है तो  अवस्था क्षणिक होती है और व्यक्ति शीघ्रपतन का शिकार  हो जाता है।  
              पूर्ण दृढ़ता के लिये नसें, रक्त प्रवाह की धमनियों, हार्मोन्स, माँसपेषियों तथा मस्तिष्क-इन सबका एक सुर और ताल में कार्य करना जरुरी है। किसी एक का भी सुर बिगड़ा नहीं कि संभोग का संगीत बेसुरा हो जाता है। आपके सहयोगी का भी संभोग के लिये तैयार होना जरुरी है। अगर आप तैयार हैं और वह तैयार नहीं है तो भी आपके सुर-ताल में गड़बड़ आ सकती है क्योंकि संभोग का शाब्दिक अर्थ ही है- सम़भोग अर्थात् जिसे दोनों ने समान रुप से भोगा हो। दोनों की मानसिक तैयारी के अलावा वातावरण भी आवष्यक है। अगर एकांत नहीं है, देखने या सुनने का भय है, किसी तरह की आहट हो रही है, तो भी संभोग के सुख में कमी आ सकती है। कई बार मानसिक तनाव या चिंता की अवस्था में व्यक्ति संभोग का प्रयास करता है और जब उसमें उसे पूरी सफलता नहीं मिल पाती तो एक नई चिंता उसे घेर लेती है।
    Shighrapatan Treatment Hindi
    Shighrapatan

     शीघ्र पतन का आयुर्वेदिक घरेलु इलाज  

    Sambhog shakti badhane ke ayurvedic upay

    (1-) Shighrapatan  - आम- दो-तीन माह आम का अमरस पीने से मर्दाना ताकत आती है। शरीर की कमजोरी दूर होती है। शरीर मोटा होता है। वात संस्थान  और काम शक्ति को उत्तेजना मिलती है। 
    (2-) Shighrapatan ka desi ilaj in hindi -  भिंडी- भिंडी से बना पाउडर, प्रिमेच्यूर ईजॅक्युलेशन मे रामबन होता है. इसके 10गम पाउडर को ले और एक गिलास मिल्क मे घोलकर पी जाए. आप चाहे तो इसमे 2 स्पून शुगर भी डाल सकते है. ऐसा रोज़ 1 महीने तक करे, आपको ज़रूर लाभ मिलेगा.
    (3-) Shighrapatan ka desi ilaj - नारियल- नारियल कामोत्तेजक है। वीर्य को गाढ़ा करता है।
    (4-) Shighrapatan ka ilaj - गाजर- गाजर हर व्यक्ति के लिए शक्तिवर्धक ;ज्वदपबद्ध है। वीर्य को गाढ़ा करती है। मर्दाना कमजोरी को दूर करने में रामबाण है। गाजर का रस पीना चाहिए।
    (5-) Shighrapatan ka gharelu upchar in hindi - प्याज- प्याज कामवासना को जगाता है। वीर्य को उत्पन्न करता है। देर मैथुन करने की शक्ति देता है। ईरानी नागरिक याह्या अली अकबर बेग नूरी ने 88 वर्ष की आयु में 168 वाँ विवाह किया। इस आयु तक उसकी जवानी बरकरार रहने का कारण है, उसका एक किलो कच्चा प्याज खाना।
                                   प्याज़ मे ऐसे गुण होते है जो शरीर मे यौन समस्याओ को दूर कर देता है. हरा और सामानया, दोनो ही प्रकार के प्याज़ फयदेमंद होते है. हरी प्याज़ के बीज को एक गिलास पानी मे घोलकर पी जाए. इससे भोजन करने से पहले ले, इससे शरीर मे ताक़त आती है. कक्चा प्याज़ ज़्यादा खाए.
    मर्दाना शक्ति बढ़ाने के लिए प्याज का रस और शहद मिलाकर पियें। सफेद प्याज का रस, शहद, अदरक का रस, देषी घी, प्रत्येक 6 ग्राम- इन चारों को मिलाकर चाटें। एक महीने के सेवन से नामर्द भी मर्द बन सकते हैं।
     (6-) Shighrapatan ke upay -  अनार- प्रतिदिन अनार खाने से पेट मुलायम रहता है तथा कामेन्द्रियों को बल मिलता है।
    (7-) Shighrapatan ke gharelu upay in hindi -  छुआरा- शीघ्रपतन और पतले वीर्य वालों को छुहारे प्रातः नित्य खाने चाहिएँ, दूध में भिगोकर छुहारा खाने से इसके पौष्टिक गुण बढ़ जाते हैं। 
    (8-) Shighrapatan ka gharelu ilaj - अश्वगंधा- ये एक प्राचीन औषधि है जो पूरे भारत मे कई वर्षो से प्रसिद्ध है. इससे कई प्रकार की यौन प्रॉब्लम्स दूर हो जाती है. इश्स अर्ब के सेवन से लिबीडो की मात्रा बदती है जो शीघ्रपटान से आराम दिलवाता है. इसके सेवन से शारीरिक मजबूती आती है और नापुसकता भी दूर हो जाती है.
    (9-) Shighrapatan ki desi dawa - चिलगोजे- यह अत्यधिक मर्दाना शक्तिवर्द्धक है। यह 15 नित्य खायें।
    (10-) Sighrapatan - शहद- शहद और दूध मिलाकर पीने से धातु क्षय में लाभ होता है। शरीर में बल-वीर्य की वृद्धि होती है। शुक्र-वर्द्धक है। मर्दाना ताकत बढ़ाने के लिए यह अत्यन्त लाभदायक है। इससे वीर्य दोष भी दूर हो जाता है।
    (11-) Shighrapatan ka gharelu ilaj in hindi - तुलसी- तुलसी की जड़ या बीज चैथाई चम्मच, पान में रख कर खाने से शीघ्र-पतन दूर होता है। देर तक रुकावट आती है। वीर्य पुष्ट होता है। 
    (12-) Sigrapatan - आद्रक और शहद- आद्रक, शरीर मे गर्मी लाती है और ब्लड सर्क्युलेशन सही करती है. एक स्पून आद्रक पेस्ट ले औ राइज़ शहद के साथ चाट ले. आप चाहे तो इससे दूध मे मिला ले. इससे बहुत लाभ मिलता है. ये प्रोसेस सोने जाने से पहले ही करे.
    (13-) Shighrapatan rokne ke gharelu upay in hindi - उड़द- उड़द का एक लड्डू खाकर ऊपर से दूध पीने से वीर्य बढ़कर धातु पुष्ट होती है और रतिषक्ति बढ़ती है।

    (14-) Sheeghra patan -  दूध-  प्रातः नाष्ते में एक केला, 10 ग्राम देषी घी के साथ खाकर ऊपर से दूध पीयें
    (15-) Shighrapatan ke desi nuskhe - सुबह के समय दो केले कहकर २५० ग्राम दूध पीने से धातु पुष्ट होती है.धातु पुष्ट होने से शीघ्रपतन ( Shighrapatan ) की बीमारी खत्म हो  जाती है.
    (16-) Shighrapatan ki dawa - इसबगोल की ५ ग्राम भूसी में 3gram मिश्री मिलकर खसखस के सरबत के साथ तीन सप्ताह तक लेने से शीघ्रपतन ( Shighrapatan ) रोग ठीक हो जाता है.
    (17-) Shighrapatan ka ilaj in hindi - अनार के छिलको को चाय में सुखाकर, कूट-पीसकर बारीक चूर्ण बना ले. इसमें से ३ ग्राम मात्रा में चूर्ण लेकर जल के साथ सेवन करे. २-३ सप्ताह में शीघ्रपतन ( Shighrapatan ) की बीमारी खत्म हो जाएगी. सुबह शाम चूर्ण सेवन करने से अधिक लाभ होगा.
    (18-) Shighrapatan rokne ki dawa - शुद्ध शिलाजीत २ माशे, ६ माशे मिलाकर चाटकर खाने से शीघ्रपतन ( Shighrapatan ) रोग ठीक हो जाता है.
    (19-) Shighrapatan rokne ki dawa - काले छुहारे को दूध में उबालकर पीने और खाने से शीघ्रपतन ( Shighrapatan ) बीमारी ठीक होती है.
    (20-) Shighrapatan ki dawa hindi me - कौंच के बीज का चूर्ण, तालखाना और मिश्री, तीनो बराबर मात्रा में लेकर कूट पीसकर चूर्ण बनाकर सुबह शाम ३-३ ग्राम चूर्ण खाकर, ऊपर से दूध पीने पर शीघ्रपतन ( Shighrapatan ) रोग ठीक हो जाता है.
    (21-) Shighrapatan hindi - गोखरू, वंशलोचन, छोटी इलायची और सत्व गिलोय सभी चीज़े ३०-३० ग्राम मात्रा में लेकर कूट पीसकर चूर्ण बनाकर रखे. प्रतिदिन ७-८ ग्राम चूर्ण मक्खन के साथ मिलाकर खाने से शीघ्रपतन ( Shighrapatan ) ठीक होता है.
    (22-) Shighrapatan ka ayurvedic ilaj in hindi - प्याज के १० ग्राम रस में ७-८ ग्राम शहद मिलाकर रोज सुबह शाम के समय चाटकर खाने से शीघ्रपतन ( Shighrapatan ) ठीक हो जाता है.

    Shighrapatan  Dur Karne Gharelu Nuskhe


    (23-) बबूल के 5-6 पत्ते व 6 ग्राम गोंद पानी में भिगोकर मसल कर उनको पानी सहित पी जाएं। ऊपर से दूध का सेवन करने से भी शीघ्रपतन रोग ठीक हो जाता है। 

    (24-) 2 तुलसी के पौधे की जड़ का चूर्ण चौथाई चम्मच घी में मिलाकर लेने से वीर्य गाढ़ा होकर शीघ्रपतन दूर होता है। 


    (25-) 3 रोज चाय के साथ लहसुन की 10-12 बूँदे सेवन करें और ऊपर से आधा किलो दूध पिएँ। लहसुन सेक्स सम्बन्धी सभी प्रकार के रोगों के लिए रामबाण औषधि है। 

    (26-) 4 रोज सुबह के समय दो छुहारे अच्छी तरह चबाकर ऊपर से 250-300 ग्राम गाय का दूध पीने से लाभ मिलता है। 

    (27-) 5 काँच के बीज व तालमखाना दोनों के 6-6 ग्राम चूर्ण दूध अथवा मिश्री के साथ सेवन करने से लाभ मिलता है।

    (28-) 6 मूली के बीजों को तेल में मिलाकर औटा लें और इस तेल से शरीर की मालिष करने से शीघ्रपतन से छुटकारा मिल जाता है। 

    (29-) 7 खसखस, ईसबगोल व मिश्री इन तीनों को 6-6 ग्राम की मात्रा में लेकर चूर्ण बनाकर दूध के साथ सेवन करें।

    (30-) 8 2-3 चम्मच प्याज के रस में शहद मिलाकर रोज सुबह के समय खाली पेट लेने से शीघ्रपतन की समस्या से छुटकारा मिलता है।

      (31-) आधा चम्मच कूटा हुआ कतीरा रात को एक गिलास पानी में भिगो दे। प्रातः इसमें शक्कर मिलाकर खायें। इससे शुक्रतारल्य ठीक हो जाता है। 

      (32-) 60 ग्राम मुनक्का धोकर भिगों दें। बारह घंटे बाद इनको खायें। भीगी हुई मुनक्का पेट के रोगों को दूर कर रक्त और वीर्य बढ़ाती है। मुनक्का धीरे-धीरे बढ़ा कर दो सौ ग्राम तक ले सकते हैं। वर्ष में इस तरह तीन-चार किलो मुनक्का खाना बहुत लाभदायक है। 

    (33-)  जिनका वीर्य पतला है, जरा-सी उत्तेजना से ही निकल जाता है, वे 5 ग्राम जामुन की गुठली का चूर्ण नित्य शाम को गर्म दूध से लें। इससे वीर्य बढ़ता भी है। 

     (34-) नाषपाती शुक्रवर्धक है। 

     (35-) शीघ्रपतन और पतले वीर्य वालों को पाँच छुहारे प्रातः नित्य खाना चाहिए। 

      (36-) सिके हुए चने या भीगे हुए चने ओर बादाम की गुली समान मात्रा में खाकर ऊपर से दूध पीने से वीर्य गाढ़ा होता है। 

     (37-) जिनका वीर्य समभोग के आरम्भ होते ही निकल जाये वे बादाम की गुली 6, काली मिर्च 6, सौंठ 2 ग्राम, मिश्री इच्छानुसार- इन सब को मिलाकर खायें, ऊपर से गर्म दूध पीयें।  

      (38-) बेर वीर्यवर्धक है। 

      (39-) दालचीनी बारीक पीस लें। 4-4 ग्राम प्रातः व रात को सोते समय गर्म दूध से फँकी लें। इससे वीर्य वृद्धि होती है, दूध पच जाता है। 

     (40-) ईसबगोल, शर्बत खषखष, मिश्री- प्रत्येक पाँच ग्राम पानी में मिलाकर पीने से शीघ्र वीर्य-पतन बन्द हो जाता है। 

     (41-) तुलसी की जड़ या बीज पान में रखकर खाने से शीघ्रपतन दूर होता है। देर तक रूकावट होती है। वीर्य पुष्ट होता है। 

      (42-) तुलसी के बीज 60 ग्राम, मिश्री 75 ग्राम- दोनों को पीस लें। नित्य 3 ग्राम दूध से लें। इससे धातु दौर्बल्य में लाभ होता है। 

      (43-) 3 ग्राम तुलसी के बीज या जड़ का चूर्ण समान मात्रा में पुराने गुड़ में मिलाकर दूध के साथ सेवन करने से पुरूषत्व की वृद्धि होती है। पतला वीर्य गाढ़ा होता है तथा उसमें वृद्धि होती है। 

      (44-) भीगी हुई चने की दाल में शक्कर मिलाकर रात को सोते समय खायें। इसे खाकर पानी न पीयें। इससे धातु पुष्ट होती है।
       

    योगा से  शीघ्रपतन का इलाज 

    Yoga se  Shighrapatan Ka illaj

    योग की अश्विनी मुद्रा की रोज़ करने से यह आपका सेक्स स्टॅमिना बढ़ता है और शीघ्रपतन को रोकने मे भी सहायता करता है. वजरोली मुद्रा को  करने पर भी आपकी समस्या कम हो जाएगी.

    Shighrapatan rokne ke gharelu upay in hindi-Shighrapatan ka gharelu ilaj in hindi

    1) Shighrapatan ke desi nuskhe - Gulab ke sudh itra me thoda kapoor milakar sambhog (Sex Karane se)  se ek ghanta pahle ling par malish kare.
    2) Shighrapatan ke upay hindi - Imli ke beej 200 gram lekar 3-4 din tak pani me dalkar rakhe. Pachve din is beejo ke uper ka chilka utar de aur giri ko chaya me sukhkar inko koot pees le. 1 chammach yeh churan aur ek chammach mishi mishri milakar subh sham fank kar uper se 1 gilas metha dudh piye. 50 din tak niyamit rup se sevan karne se Dhatu durbalta khatam hota hai. Swapandosh Khatam hota hai. Aur  Shighrapatan Rog nasht hota hai. Aur Virya Gadha Hota hai.

    3) Shighrapatan ki dawa - Babul le patte, Chaal, Fool, Gond Saman bhag lekar peeskar subh pani se lene se dhatu ka patla-pan, shighrapatan, swapandosh prameh, sweet pradar aadi rog thik ho jate hai.

    4) Shighrapatan ka ilaj in hindi - Shighrapatan ke ilaj me Muli ke beejo ko tel me senkar uspar tel ki malish ling (land par) parkarne se use sex karne ki power milti hai. Aur sath hi Shighrapatan dur hota hai.

    5) Shighrapatan rokne ki dawa -  Ek katori me 5 chammach barbad ka dudh tapkaye phir usme nariyal ka chura mila de. Jab dudh va nariyal gadha ho jaye to 2 chammach shahed milakar gaay ke 25 gram makkhan me milkar chate. 21 din bina sex kiya ya bhramhcharya ke sath is dawa ka upyog kare. Phir baad me 7 sin me shighrapatan ki is dawa ka ka upyog ek din kare.

    8) Shighrapatan ka ayurvedic ilaj in hindi-  Chaay ke sath lashsun ki 10-20 bunde din me 3-4 bar lete rahne se aamashya thik ho jata hai. Aur uttejna badhti hai. Uadi phir bhi ka,jori ka anubhav ho to subh shaam lahsun ki barfi 25-30 gtam ki matra me khakar uper se dudh pee le. Ye shighrapatan ki dawa aur sabhi prakar ke virya dosh, sex na karne ki icha khatam karta hai.

    7) Sigharpatan me jamun ki guthilya sukhkar pees le. 250-250 gtam subh sham dudh ke sath roj le. ek mahine tak lagatar lene se sigharpatan ki preshani dur ho ho jati hai.

    8) Shighrapatan ka ayurvedic ilaj in hindi - Shighrapatan ke ayurvedic ilaj me Nashte me tamatar kasup le. phir palak ke beejo ka churan 3 gram paani ya dudh ke sath fank ke. 45 din me tamatar ka sup va palak ke beej lete rahne se shighraptan dur ho jata hai.

    9)  Sheeghra patan  me isbgol, sharbat, khaskhas, mishri- ye sabhi 5-5 gram pani milakar peene se sheeghra patan homa band ho jata hai.

    10) Sigrapatan -  Aur patle vitya valo ko 2 chuhare roj subh khane se Shighrapatan hona ruk jata hai.

    Shighrapatan ke gharelu upay-Shighrapatan ka gharelu nuskhe 

    1) Shighrapatan ka desi ilaj - Dhatu durbalta se preshan insan ke liye sighada ek vardan hai. Unhe Sardi ke mausam me subjh sham 3 se 5 gram seghade ka aata sudh ke sath secan karna chaihiye. Bhut asardar gharelu nuskha hai. Seghade ka halva bhi shighrapatan ka desi ilaj hai.

    2) Shighrapatan ke upay - 30 gram chana adha paav paai me roj shaam ko bhego dijiye. Susre din subh chane chaba-chabakar kha le aur vah paani 2 chammach shahed milakar pee le.  Ye Desi ilaj tab tak karte rahe jab tak apka shighrapatan puri tarh se thik nahi ho jata.

    3) Shighrapatan ki desi dawa - Tulsi ke beej peese huye ya tulsi ki jad chauthai chammach aadhe pani ke sath roj subh sham khali pet khane se virya gadha hota hai aur shighrapatan khatam ho jata hai.               

    4)  babool ke 5-6 patte va 6 gram goand pani mein bhigokar masal kar unko pani sahit pi jayen. upar se doodh ka sevan karne se bhi seghrpatan rog theek ho jata hai.

      5) tulsi ke paudhe ki jad ka churn chauthai chammach ghee mein milakar lene se veery gada hokar seghrpatan door hota hai.

      6) roj chai ke sath lehsun ki 10-12 boonde sevan karen aur upar se adha kilo doodh piyen. lehsun sex sambandhi sabhi prakar ke rogon ke liye rambaad ausdhi hai.

      7) roj subah ke samay 2 chuhare acchi tarah chabakar upar se 250-300 gram gai ka doodh peene se labh milta hai.

      8) kanch ke beej va taalmkhana dono ke 6-6 gram churn doodh athwa mishri ke sath sevan karne se labh milta hai.

      9) muli ke beejon ko tail mein milakar auta le aur is tail se sareer ki malish karne se seghrapatan se chutkara mil jata hai.

      10) khaskhas, ishabgoal va mishri in teeno ko 6-6 gram ki matra mein lekar churn banakar doodh ke sath sevan karen.

      11) 2-3 chammach pyaz ke rass mein sehed milakar roj subah ke samay khali pet lene se seghrpatan ki samasya se chutkara milta hai.

      12) adha chammach kuta hua kateera raat ko ek gilass pani mein bhigon de. pratah isme sakkar milakar khayen. isse sukrtaraly theek ho jata hai.

      13) 60 gram munakka dhokar bhigon de. 12 ghante baad inko khayen. bhigi hui munakka pet ke rogon ko door kar rakt aur veery badati hai. munakka dheere-dheere bada kar 200 gram tak le sakte hai. varsh mein is tarah 3-4 kilo munakka khana labhdayak hai.

      14) jinka veery patla hai, jara-si uttejana se hi nikal jata hai, ve 5 gram jamun ki guthli ka churn nitya saam ko garam doodh se le. isse veery badta bhi hai.

      15) nashpati sukrvardhak hai.

     16) seghrpatan aur patle veery walon ko 5 chuhare nitya khana chahiye.

      17) shike hue chane ya bheege hue chane aur badam ki guli saman matra mein khakar upar se doodh peene se veery gada hota hai.

     18) jinka veery sambhog ke aarambh hote hi nikal jaye ve badam ki guli 6, kali mirch 6, sauth 2 gram, mishri ichanushar- in sabko milakar khayen, upar se garam doodh piyen.

      19) ber veeryvardhak hai.

      20) daalchini bareek pess le. 4-4 gram pratah va raat ko sote samay garam doodh se fanki le. isse veery vridhi hoti hai, doodh pach jata hai. 

      21) isabgoal, sarbat khaskhas, mishri- pratek 5 gram pani mein milakar peene se seghr veery-patan band ho jata hai. 

      22) tulsi ki jad ya beej paan mein rakhkar khane se seghrpatan door hota hai. der tak rukavat hoti hai. veery pust hota hai.

    23)   tulsi ke beej 60 gram, mishri 75 gram- dono ko pess le. nitya 3 gram doodh se le. isse dhatu daurbal mein labh hota hai.

      24) 3 gram tulsi ke beej ya jad ka churn saman matra mein purane gud mein milakar doodh ke sath sevan karne se purusatv ki vridhi hoti hai. patla veery gada hota hai tatha usme vridhi hoti hai.

      25) bheegi hui chane ki daal mein sakkar milakar raat ko sote samay khayen. ise khakar pani na piyen. isse dhatu pust hoti hai.


    Tag- shighrapatan ka desi ilaj| shighrapatan yoga| shighrapatan rokne ke upay| shighrapatan in hindi| shighrapatan ki dawa| shighrapatan medicine| shighrapatan ka ilaj| shighrapatan treatment


    • Blogger Comments
    • Facebook Comments
    Item Reviewed: Shighrapatan ayurvedic gharelu upchar Rating: 5 Reviewed By: Gharelu Upay
    loading...
    Scroll to Top