• Latest News

    Gharelu Upchar. Blogger द्वारा संचालित.
    रविवार, 3 जनवरी 2016

    Loose Motion (dast) Ka Gharelu Upchar



    Loose Motion Dast KA Upchar| Dast ka Ilaj| Loose Motion Gharelu Upay| दस्त रोग Ayurvedic Treatment


    Dast rog hone per kya kare?

    Dast hote hi uska gharelu upchar arambh kar dena chahiye. Loose motion ke karan sharir mein pani aur namak ki kami ko door karne ke liye “sugar aur namak ka ghol” ka prayog turant karna chahiye. Yeh ghoal aasani se taiyaar kar sakte hain. ishki vidhi is prakar hai-
    1        Ek gilass ya (200milileter)  peene ka saaf paani le.
    2        Yeh pani ek saaf bade bartan me daaliye.
    3        Ishme saaf hanth se ek chutki bareek namak daaliye.
    4        Ab saaf chamach se pani ko hilayen taaki namak pani me poori tarah ghul jaaye.
    5        Is ghoal ko chakh kar yeh pata laga le ki swaad anusar hai ya usse adhik namkeen nahi hai.
    6        Ab ek chai wala chamach cheeni se bhar kar pani me daal de.
    7        Chamach se ghoal hila hila kar cheeni aachi tarah se ghoal le. cheeni nahi ho to gud bhi prayog ke kaam me le sakte hai.
    8        Ab her patli dast ke baad aadhe se ek gilass tak is ghoal rogi ko thoda-thoda karke pilaye.
     Is taarh ka ghol bane-banaye packeton me bhi milta hai. iss ek packet ko ek leter saaf pani mein gholna hota hai.
              Loose motion ya dast  rog ke dauraan rogi ki khurak per vishesh dhyan dene ki jaroorat hai. bachee ko maa ka doodh pilana chahiye. Ishke alava periapt matra mein anya taral padarth, example- neembu ka pani, rice, kanji etc dejiye. khichadi, masala hua kela, dahi aadi naram cheeze khilayi jaye.
              Yadi patle dast do dino mein band nahi ho aur bachaa kamjor hota chala jaye to use docter ko dikhane jana chahiye.  

    Dast ke Ayurvedic Gharelu Upchar 

              (1)- Ajeern, aapach se Loose motion ya dast ho to rogi ko Khana nahi khana chahiye. Dahi ki lassi peena labhdayak hai. Is article me batai gai khane ki chezo ka cheezo ka adhikadhik khaye. Inse Khane ki poorti bhi hogi aur Dast bhi theek ho jaayega.
                       Dast hone per samany dahi ki lassi, chach, chach mein do chamach ishabgoal ki bhoosi mila kar de. Fruit me mein (Apple)seab, aanar ka ras, dahi, khichadi dena labhdayak hai.
              (2)- Neembu-     Doodh(milk) mein neembu(Lemon)  nichod ker pine se dasto mein labh hota hai. Loose motion mein maroad aur sath me pet dard ho to, aav aata ho to neembu ka upyog kare. Ek neembu ka ras ek cup pani mein milakar piyen. Ishi prakar ek din mein paanch baar de. isse dast band ho jaate hain.
              (3)- Aam(Mango)- Meetha amras aadha cup, dahi 25 garam aur adrak ka ras ek chamach milkar piye isse apka dast aur sath hi  bavaseer theek ho jayega.Ye gharelu upchar kafi saral hai.Ye Dast ka bhi Gharelu upchar hai.
              (4)- Aavla- Ye Nuskha Ayurvedic Upchar bhi dast ya loose motion ka hai. Is gharelu illaj me Sukha aavla, kala namak saman matra mein peesker jal ke sath aadha chamach ki fanki lene se dast band ho jate hai.
              (5)- Jamun- Loose motion ka ayurvedic nuskha hai kaise bhi tez dast ho, jamun ke ped ki dhai pattiyan, jo na jyada moti ho aur na jayada mulayam, lekar pees le, fir ushme jara-sa sendha namak milakar ushki goli bana le. ek goli subah aur ek sham ko lene se atisaar ya dast me turant band ho jata hai.Ye kafi kargar gharelu upchar hai.  
              (6)- Anar- (1) ek anar per charon oar mitti ka lep karen. Aur bhoon le. bhoonne ke baad daane nikal ker rass nikalen. Ishme sehed mila kar piyen. Kishi bhi prakar ke  dast theek ho jayenge. Ye Hakimi ilaj Kafi asardar hai.
    (2)     15 garam anar ke sukhe chilke aur do laung- in dono ko pess kar ek glass pani mein ubalen. Aadha pani rehne per chaan ker ishke teen hishse karke ek din mein 3-3 ghante ke antar se teen baar piyen. Dast, pechis mein labh hoga. jin vyaktiyon ke pet mein aanch ki shikayat bani rehti ho ya disentri sangrahni ho, unke liye ishka niyamit sevan labhkari hai.
    (7)- Lauki-         lauki ka rayta dasto mein labhdayak hai.
    (8)Aloo Bukhara-     yeh malrodhak hai lekin kabz nahi karta.
    (9) Amrood-     amrood ki komal pattiyan ubaal kar pine se purane dast theek ho jate hain. 
    (10)- Papeta-       kachaa papeta ubaal kar khane se purane dast theek ho jate hai.
    (11)- Gaazar-       isse purane dast aur apach ke dast theek ho jate hai.
    (12)- Pyaaz-         (1) pyaaz ko pesskar naabhi per lep karne se dast band ho jate hai. (2)  teen garam pyaaz ke rass mein ek raai ke baraber afeem milakar pilayen, turant dast, maroad band honge.
    (13)- Massor ki daal or chaval-        ye dast aur pechis ke rogiyoun ke liye uttam bhojan hai.
    (14)-Gehun-        saunf ko bareek pess le. ishe pani mein milayen. Iss saunf  ke pani mein gehun ka aata oshad ker roti banakar khane se dast aur pechis mein labh hota hai.
    (15)- Chach-        aadha paav chach mein 12 garam sehed milakar teen baar peene se dast theek ho jaate hai.
    (16)- Ghee- dast hone per aadha gilass gerem pani mein ek chai ki chamach gaai or bhais ka desi ghee milakar subah-sham do baar piyen. Dast band ho jayenge. Bachon ko kam matra mein unke pine ki chamtanushar de. yeh nushka anek parivaron mein peediyoun se prayog kiya jata hai.
    (17)- Saunf-         yadi marod deker thoda-thoda mal aata ho to teen garam kachii aur teen garam bhuni hui saunf milakar, peesker, mishri milakar sevan karne se labh hota hai. chote bachoon ke patle dast, pechis mein 6 garam saunf 82 garam pani mein ubaale. Jab pani aadha reh jaaye to ushme 1 garam kala namak daal de. bachoon ko 12 garam pani din mein teen baar dene se bahut labh hota hai.
    (18)- Jayfal-         saunth aur jayfal ko pani mein ghis ker teen baar nitya pilane se dast theek ho jate hain. yeh bachoon ke liye vishesh upyogi hai.
    (19)- Daalchini-     2 garam peesi hui daalchini ki paani se teen baar fanki lene se dast band ho jate hai.
    (20)-Tulsi-  tulsi ke patton ka kadaa peene se dasto mein labh hota hai. 10 garam tulsi ke patton ka rass peene se maroad aur ajeern mein gudkari hai. 
    (21)- Ishabgoal-  do chai ki chamach ishabgoal gerem doodh mein fulaker ratri mein sevan karen. Pratah dahi mein bhigokar fulaker usme namak, sounth, jeera milakar pilayen. Kuch din lagataar sevan karne se dasto mein aanch nikalna band ho jayega.
    (22)- Fitkari-       fitkari 20 garam aur afeem 3 garam peeskar mila le. subah-saam iss churan(daal ke baraber) ko thode- se pani ke sath rogi ko pilayen. Ishse dasto mein labh hoga.
    (23)- Jeera- patle dast hone per jeere ko sekkar aadha chamach sehed mein milaker chaar baar nitya chante. Khane ke baad chach mein sika hua jeera kala namak milaker piyen. Dast band ho jayenge.
              (24)- Adrak- aadha cup ubla hua gerem pani le. ishme ek chamach adrak ka rass milayen. Jitna gerem piya ja sake, utna gerem piyen. Is tarah ek ghante mein ek khurak lete rehne se pani ki tarah ho rahe dast band ho jaate                                   
                       दस्त रोग( Loose Motion)
     What is Loose Motion...?

     दस्त रोग होने पर क्या करें?
    Ways To Stop Loose Motion??
    दस्त होते ही उसका घरेलू उपचार आरम्भ कर देेना चाहिए। दस्त के कारण शरीर में पानी और नमक की कमी को दूर करने के लिए ‘‘जीवन रक्षक घोल’’ का प्रयोग तुरन्त करना चाहिए। यह घोल आसानी से तैयार कर सकते हैं। इसकी विधि अग्र प्रकार है-
    1    एक गिलास या (200मिलीलीटर) पीने का साफ पानी(water) लेवें।
    2    वह पानी एक साफ बड़े बर्तन में डालिये।
    3    इसमें साफ हाथ से एक चुटकी बारीक नमक डालिये।      
    4    अब साफ चम्मच से पानी को हिलायें ताकि नमक पानी में पूरी तरह घुल जाये।
    5    इस घोल को चख कर यह पता लगा लें कि स्वाद आँसुओं से अधिक नमकीन नहीं हो।
    6    अब एक चाय वाला चम्मच चीनी से भर कर पानी में डाल दें।
    7    चम्मच से घोल हिला कर चीनी अच्छी तरह से घोल लें। चीनी नहीं हो तो गुड़ भी काम में ले सकते हैं।
    8    अब हर पतली दस्त के बाद आधे से एक गिलास तक यह घोल रोगी को थोड़ा-थोड़ा करके पिलायें।
        ‘‘जीवन रक्षक घोल’’ बने-बनाये पैकेटों में भी मिलता है। इस एक पैकेट को एक लीटर साफ पानी में घोलना होता है।
            दस्त रोग के दौरान रोगी की खुराक पर विषेष ध्यान देने की जरूरत है। बच्चे को माँ का दूध पिलाना चाहिए। इसके अलावा पर्याप्त मात्रा में अन्य तरल पदार्थ, जैसे- नीबू का पानी, चावल, कांजी, आदि दीजिए। खिचड़ी, मसाला हुआ केला, दही आदि नरम चीजें खिलाई जायें।
            यदि पतले दस्त दो दिनों में बन्द नहीं हों और बच्चा कमजोर होता चला जाये तो उसे डॉक्टर को दिखाना जाना चाहिये।
            अजीर्ण, अपच से दस्त हो तो रोगी को भोजन नहीं करना चाहिए। दही की लस्सी पीना लाभदायक है। यहाँ वर्णित चीजों का अधिकाधिक सेवन करें। इनसे भोजन की पूर्ति भी होगी और रोग भी ठीक हो जायेगा।
            दस्त होने पर सामान्य दही की लस्सी, छाछ, छाछ में दो चम्मच ईसबगोल की भूसी मिला कर दें। फलों में सेब, अनार का रस, दही, खिचड़ी देना लाभदायक है।



    dast ka ayurvedic illaj
    Loose motion illaj

    Ayurvedic Treatment|Home Remedies|Gharelu upchar|Loose Motion 

    (1) नीबू- दूध में नीबू निचोड़ कर पीने से दस्तोें में लाभ होता है। दस्त में मरोड़ हो, आँव आती हो तो नीबू का उपयोग करें। एक नीबू का रस एक कप पानी में मिलाकर पीयें। इसी प्रकार एक दिन में पाँच बार दें। इससे दस्त(Loose Motion) बन्द हो जाते हैं। 

    (2) आम- मीठा अमरस आधा कप, दही 25 ग्राम और अदरक का रस एक चम्मच सब मिलाकर पीयें। इससे पुराने दस्त, दस्तों में अपच के कण निकलना और बवासीर ठीक होती है। 


    (4) आँवला- सूखा आँवला, काला नमक समान मात्रा में पीसकर जल के साथ आधा चम्मच की फँकी लेने से दस्त
    (Loose Motion)बन्द हो जाते हैं। 

    (5)जामुन- कैसे भी तेज दस्त हों, जामुन के पेड़ की ढाई पत्तियाँ, जो न ज्यादा मोटी हों और न ज्यादा मुलायम, लेकर पीस लें, फिर उसमें जरा-सा सेंधा नमक मिलाकर उसकी गोली बना लें। एक गोली सुबह और एक गोली शाम को लेने से अतिसार तुरन्त बन्द हो जाता है। 


    (6) अनार- 1.  एक अनार पर चारों ओर मिट्टी का लेप करें और भून लें। भूनने के बाद दाने निकाल कर रस निकालें। इसमें शहद मिला कर पीयें। किसी भी प्रकार के दस्त ठीक हो जायेंगे। 


    2. 15 ग्राम अनार के सूखे छिलके और दो लौंग- इन दोनों को पीस कर एक गिलास पानी में उबालें। आधा पानी रहने पर छान कर इसके तीन हिस्से करके एक दिन में 3-3 घंटे के अन्तर से तीन बार पीयें। दस्त, पेचिष में लाभ होगा। जिन व्यक्तियों के पेट में आँव की षिकायत बनी रहती हो या डिसेंट्री संग्रहणी हो, उनके लिए इसका नियमित सेवन लाभकारी है। 

    (6) लौकी- लौकी का रायता दस्तों में लाभदायक है। 


    (7) आलू बुखारा- यह मलरोधक है लेकिन कब्ज नहीं करता। 

    (8) अमरूद- अमरूद की कोमल पत्तियाँ उबाल कर पीने से पुराने दस्त ठीक हो जाते हैं। 

    (9) पपीता- कच्चा पपीता उबाल कर खाने से पुराने दस्त (Loose Motion)ठीक हो जाते हैं। 

    (10) गाजर- इससे पुराने दस्त और अपच के दस्त ठीक हो जाते हैं। 

    (11) प्याज- 1.  प्याज को पीसकर नाभि पर लेप करने से दस्त बन्द हो जाते हैं। 
    2. तीन ग्राम प्याज के रस में एक राई के बराबर अफीम मिलाकर पिलायें, तुरन्त दस्त, मरोड़ बन्द होेंगे। 

    (12) मसूर की दाल व चावल- ये दस्त और पेचिष के रोगियों के लिए उत्तम भोजन है। 

    (13) गेहूँ- सौंफ को बारीक पीस लें। इसे पानी में मिलायें। इस सौंफ के पानी में गेहूँ का आटा ओषण कर रोटी बनाकर खाने से दस्त और पेचिष में लाभ होता है।

    (14) छाछ- आधा पाव  छाछ में 12ग्राम शहद मिलाकर तीन बार पीने से दस्त ठीक हो जाते हैं। 

    (15) घी- दस्त हाने पर आधा गिलास गर्म पानी में एक चाय की चम्मच गाय या भैंस का देषी घी मिला कर सुबह-शाम दो बार पीयें। दस्त बन्द हो जायेंगे। बच्चों को कम मात्रा में उनके पीने की क्षमतानुसार दें। यह नुस्खा अनेक परिवारों में पीढि़यों से प्रयोग किया जाता है। 

    (16) सौंफ- यदि मरोड़ देकर थोड़ा-थोड़ा मल आता हो तो तीन ग्राम कच्ची और तीन ग्राम भुनी हुई सौंफ मिलाकर, पीसकर, मिश्री मिलाकर सेवन करने से लाभ होता है। छोटे बच्चों के पतले दसत, पेचिष में छः ग्राम सौंफ 82 ग्राम पानी में उबालें। जब पानी आधा रह जाये तो उसमे 1ग्राम काला नमक डाल दें। बच्चों को बारह ग्राम पानी दिन में तीन बार देने से बहुत लाभ होता है। 

    (17) जायफल- सौंठ और जायफल को पानी में घिस कर तीन बार नित्य पिलाने से दस्त ठीक हो जाते है। यह बच्चों के लिए विषेष उपयोगी है।
    (18) दालचीनी- 2 ग्राम पिसी हुई दालचीनी की पानी से तीन बार फँकी लेने से दस्त
    (Loose Motion) बन्द हो जाते है। 

    (19) तुलसी- तुलसी के पत्तों का काढ़ा पीने से दस्तों में लाभ होता है। दस ग्राम तुलसी के पत्तों का रस पीने से मरोड़ और अजीर्ण में गुणकारी है। 


    (20) ईसबगोल- दो चाय की चम्म्च ईसबगोल गर्म दूध में फुलाकर रात्रि में सेवन करें। प्रातः दही में भिगोकर फुलाकर उसमें नमक,सौंठ,जीरा मिलाकर पिलायें। कुछ दिन लगातार सेवन करने सेे दस्तों में आँव निकलना बन्द हो जायेगा। 


    (21) फिटकरी- फिटकरी 20ग्राम और अफीम 3ग्राम पीस कर मिला लें। सवेरे-षाम इस चूर्ण (दाल के बराबर) को थोड़े-से पानी के साथ रोगी को पिलायें। इससे दस्तों में लाभ होगा। 

    (22) जीरा- पतले दस्त होने पर जीरे को सेक कर आधा चम्मच शहद में मिलाकर चार बार नित्य चाटें। खाने के बाद छाछ में सिका हुआ जीरा काला नमक मिलाकर पीयें। दस्त बन्द हो जायेगें।

    (23) अदरक- आधा कप उबला हुआ गर्म पानी लें। इसमें एक चम्मच अदरक क रस मिलायें। जितना गर्म पिया जा सके, उतना गर्म पीयें। इस तरह एक घण्टे में एक खुराक लेते रहने से पानी की तरह हो रहे दस्त (Loose Motion)बन्द हो जाते है।

    • Blogger Comments
    • Facebook Comments
    Item Reviewed: Loose Motion (dast) Ka Gharelu Upchar Rating: 5 Reviewed By: Gharelu Upay
    loading...
    Scroll to Top