728x90 AdSpace

  • Latest News

    Gharelu Upchar. Blogger द्वारा संचालित.

    रुसी ठीक करने के उत्तम आयुर्वेदिक उपचार - Dandruff (Rusi) ka Ayurvedic Gharelu Desi Ilaj Upchar

    Dandruff (Rusi) ka Ayurvedic Gharelu Desi Ilaj Upchar | Rusi ka gharelu upchar| desi gharelu upchar rusi dandruff               

      बालों के रोग-

    Balo ke Rog

    बालों को ठीक रखने के लिए प्रोटीन युक्त भोजन लाभदायक है। दूध, पनीर, ताजे फल, हरी सब्जियाँ, सलाद गुणकारी है।

    फरास, रूसी

    सिर में रूसी हो जाने पर बाल झड़ने लगते हैं। रूसी अधिकतर बालों की भली प्रकार सफाई नहीं रखे जाने पर, बालों में से साबुन सही तरीके से नहीं धुल पाने पर हो जाती है। इस रोग में सिर पर सफेद रंग के छोटे-छोटे भूसी के समान कण बन जाते है। कंघी करते समय या सिर खुजलाते समय ये कण अलग- अलग होकर सम्पूर्ण बालों में ‘रक्त बीज’ की भाँति फैलने एवं पनपने लगते है। रूसी के कारण बहुत अधिक खुजली मचती है। बार-बार बेतहाषा खुजली करने पर सिर का वह स्थान गर्म हो जाता है। फलस्वरूप उस स्थान के बाल पतले रूखे एवं कमजोर होकर झड़ने लगते है।

    स्वस्थ बालों की सबसे बड़ी शत्रु होती है-‘रूसी’। रूसी न केवल बालों की जड़ों को कमजोर बनाती है बल्कि इससे त्वचा से सम्बन्धित रोग भी हो जाते है। हमारी त्वचा के अन्दर कोषों के टूटने और नवीनीकरण की प्रक्रिया सदा चलती रहती है। यह प्रक्रिया सिर की त्वचा में भी होती है। और मृतकोष अपने आप झड़ जाते है। किन्तु यदि ये मृतकोष बहुत अधिक मात्रा में बनने व झड़ने लगें तो यह रोग है। इसका उपचार करना आवष्यक है।

        रूसी दो प्रकार की होती है। शुष्क, जो खुजलाने पर झड़ती है और चिकनी, जो खोपड़ी पर चिपकी रहती है।

        जब सिर में बहुत अधिक पपड़ी जम जाती है तो बालों की जड़ों में हवा नहीं पहुँच पाती और बाल कमजोर होकर झड़ने लगते हैं।

    कारण- बहुत अधिक मात्रा में रूसी होने के कारण सिर में गंदगी का होना, रक्त संचार में गड़बड़ी, इन्फेक्षन, असंतुलित भोजन आदि है।

    बचाव- यह एक छूत का रोग है, जिन लोगों को यह रोग है उनके कंघे, हेयरब्रष, तौलिया, तकिया आदि अलग रखने चाहिए। जब यह बीमारी अपनी चरम सीमा पर पहुँच जाती है तो चेहरे पर भौंहों और बरौनियों में भी हो जाती है। 

    Rusi ka gharelu upchar| desi gharelu upchar rusi dandruff      

    (1) डेटोल- नहाने के पानी में थोड़ा-सा डेटोल डालकर नहाने से छूत का रोग नहीं लगता। 

     

    (2) खसखस- चार चम्मच खसखस दूध में पीस कर बालों की जड़ों में लगायें। आधे घंटे बाद सिर धोयें। धोने में शैम्पू या साबुन काम में ले सकते हैं। सप्ताह में दो बार इस तरह बाल धोयें। रूसी बालों से निकल जायेगी।

    (3) चना- चार बड़े चम्मच बेसन एक बड़े गिलास पानी में घोलकर बालों पर मलें, फिर सिर धो लें। इससे फरास या रूसी दूर हो जायेगी।

    (4) अरहर- रात को एक कप छिलके सहित अरहर की दाल पानी में भिगों दें। प्रातः इसे पीसकर सिर में लगा लें। आधा घंटे बाद सिर धोयें। फिर गीले बालों में ही कंघी करें। रूसी निकल जायेगी।

    (5) दही- सप्ताह में दो बार दही से बालों को धोने से फरास ठीक हो जाती है। सौन्दर्य विषेषज्ञ डाॅ0 सिल्वी ने यह जानकारी सौन्दर्य कार्यषाला में दी। रूसी से बाल झड़ते है, लोग गंजे हो जाते है। रूसी से ग्रस्त व्यक्ति को सरसों के तेल से मालिष करनी चाहिए, सिर में सरसों का तेल लगाना चाहिए।एक कप दही में नमक मिलाकर बिलो लें, फेट लें। इससे बालों को मल कर धोयें। फरास दूर हो जायेगी।

    (6)  आँवला- 5 चम्मच पिसे हुए आँवले को रात को आधा कप पानी में भिगो दें, प्रातः इस पानी से सिर धोयें। इससे फरास जमना बन्द हो जाता है।

    (7) चुकन्दर- चुकन्दर के पत्तों को पानी में उबालकर सिर धोने से फरास दूर होती है। जुँए भी मर जाती है।

    (8) तिल- बालों में तिल के तेल की मालिष करें। मालिष के आधा घण्टे बाद एक तौलिया गर्म पानी में भिगो कर, निचोड़ कर सिर पर लपेट लें, ठण्डा होने पर पुनः गर्म पानी में निचोड़ कर सिर पर लपेट लें। इस प्रकार पाँच मिनट गर्म लपेट रखें, फिर ठण्डे पानी से सिर धो लें। इस से रूसी दूर हो जायेगी।

    (9) रीठा- रीठे से सिर धोने से बालों की रूसी दूर हो जाती है।  

    Balon ke rog-

    balon ke theek rakhne ke liye protin yukt bhojan labhdayak hai. doodh, paneer, taaze fal, hari sabjiyan, salad gudkari hai.

    Farash, rushi

    Shir mein rushi ho jane per baal jhadne lagte hain. rushi adhiktar balon ki bhali prakar safai nahi rakhe jane per, balon mein se sabun sahi tareke se nahi dhul pane per ho jati hai. is rog mein shir per safed rang ke chote-chote bhushi ke saman kad alag-alag hoker sampurn balon mein ‘rakt beez’ ki bhanti failne aur panapne lagte hai. rushi ke karan bahut adhik khujli machti hai. baar-baar bethasha khujli karne per shir ka vah sthan gerem ho jata hai. falswaroop us sthan ke baal patle ruche aur kamjor hoker jhadne lagte hai. 

                Swasth balon ki sabse badi satru hoti hai-‘rushi’. rushi na keval balon ki jadon ko kanjor banati hai balki isshe twacha se sambandhit rog bhi ho jate hai. hamari twacha ke andar koshon ke tootne aur navinikaran ki prakirya sada chalti rehti hai. yeh prakirya shir ki twacha mein bhi hoti hai aur mritkosh apne aap jhad jate hai. kintu yadi ye mritkosh bahut adhik matra mein banne aur jhadne lage to yeh rog hai. ishka upchar karna aavashyak hai. 

         Rushi 2 prakar ki hoti hai. sushk, jo khujlane per jhadti hai aur chikni, jo khopdi per chipki rehti hai.
                jab shir mein bahut adhik papdi jam jati hai to balon ki jadon mein hawa nahi pahunch pati aur baal kamjor hoker jhadne lagte hai. 

    Dandruff hone ke karan- bahut adhik matra mein rushi hone ke karan shir mein gandgi ka hona, rakt sanchar mein gadbadi, infection, asantulit bhojan aadi hai.
    bachav- yeh ek chuat ka rog hai, jin logon ko yeh rog hai unke kanghe, hairbrush, tauliya, takiya aadi alag rakhne chahiye. jab yeh bimari apni charam seema per pahunch jati hai to chehre per bhahuon aur barauniyoun me bhi ho jati hai.

    dandruff Rusi ka gharelu upchar| desi gharelu upchar rusi dandruff      

    (1) dettol-  nhane ke pani mein thoda-sa dettol dalker nhane se chuat ka rog nahi lagta.
    Khashkhash- 4 chamach khashkhash doodh mein pess ker balon ki jadon mein lagaye. aadhe ghante baad shir dhoyen. dhone mein sampu aur sabun kaam mein le sakte hain. saptah mein 2 baar is tarah baal dhoyen. Rushi balon se nikal jayegi. 

    (2) Chana- 4 bade chamach beshan 1 bade gilass pani mein gholkar balon per malen, fir shir dho le. isshe farash  aur rushi door ho jayegi. 

    (3) Arahar- raat ko 1 cup chilke sahit arahar ki daal pani mein bheego de. pratah ishe pessker shir mein laga le. aadha ghante baad shir dhoyen. Fir geele baalon mein hi kanghi karen. rushi nikal jayegi. 

    (4) Dahi- saptah mein 2 baar dahi se baalon ko dhone se farash theek ho jati hai. saundry visheshyg doctor shilvi ne yeh jaankari saundry karyshala mein di. Rushi se baal jhadte hai, log ganje ho jate hai. rushi se grast person ko sarshon ke tail se malish karni chahiye, shir mein sarshon ka tail lagana chahiye.
                1 cup dahi mein namak milaker bilon le, feat le. isshe baalon ko mal ker dhoyen. farash door ho jayegi. 

    (5) Avala- 5 chamach pesshe hue avale ko raat ko aadha cup pani mein bheegon de, pratah is pani se shir dhoyen. isshe farash jamna band ho jata hai. 

    (6) Chukander- chukander ke patton ko pani mein ubalker shir dhone se farash door hoti hai. juyen bhi mar jati hai. 

    (7) Til- baalon mein til ke tail ki malish karen. malish ke aadha ghante baad ek tauliya gerem pani mein bheego ker, nichod ker shir per lappet le. thanda hone per punah gerem pani mein nichod ker shir per lappet le. is prakar 5 minute gerem lappet rakhe, fir thande pani se shir dho le. is se rushi door ho jayegi. 

    (8) Reettah- reettah se shir dhone se baalon ki rushi door ho jati hai.


    • Blogger Comments
    • Facebook Comments
    Item Reviewed: रुसी ठीक करने के उत्तम आयुर्वेदिक उपचार - Dandruff (Rusi) ka Ayurvedic Gharelu Desi Ilaj Upchar Rating: 5 Reviewed By: Gharelu Upay
    loading...

    Popular Posts

    Scroll to Top