• Latest News

    Gharelu Upchar. Blogger द्वारा संचालित.
    शनिवार, 12 मार्च 2016

    Arthritis-Gathiya Bai Treatment

    Gathiya rog ke lakshan in hindi| gathiya bai| gathiya arthritis disease in hindi| gathiya ayurvedic treatment| about gathiya rog| gathiya bimari | gathiya bai ka ilaj, treatment in ayurveda| gathiya called in english- Arthritis| gathiya disease symptoms, wiki| gathiya disease home remedies| gathiya dard ka ilaj| arthritis meaning - gathiya rog| arthritis knee causes cure diet in hindi| arthritis types pain| arthritis treatment in hindi| arthritis ayurvedic treatment| arthritis and joint pain medicine| arthritis and its types| arthritis a disability


    Gathiya e Dard Ka Ayurvedic Ilaj Urdu

    Bimariyon ko apne bure karmo ka nateeza manne ke bajay  yadi skaratmak soch se dharmik astha aur adhyatm ka sahara liya jaye to marizon ko kafi rahat mil sakti hai. america vaigyaniko ne ek adhyan mein paya hai ki jodon ke gathiya (rumetoid arthraitis ) ke ashadya dard se peadit marizon ko dharm aur adhyatm ki jeevan shaili apnane se dard kam karne aur swasth hone mein kafi madad mili.
       
     Skaratmak dharmik aur adhyatmik pravatiyon wale marizon ko adhik prabhavi dhang se dard se mukti aur niyntran paate dekha gaya. apni bimariyon ko paapon aur ishwariy prakoap manne ki nkaratmak soch dard badhati hai. ishke viprit ishwar ke nikat aur jeevan ke prati judav rakhne wale marizon ko adhik samajik smarthan bhi milta hai. 

    Gathiya Bai Ke Karan
    Causes Of Arthritis


        (1) Fast food aur junk food khane se bhi arthritis rog ho sakta hai.
        (2) Jyada gussa ane ki adat aur thand (cold) ke dino me adhik sone ki adat se bhi gathiya ho sakta hai.
        (3) Aalsi (lazy) vyakti jo niyamit vyayam ya kaam nahi karte unhe bhi gathiya rog ho sakta hai.
        (4) Vasayukt (fatty) bhojan adhik matra me khane se bhi gathiya rog ho sakta hai.
        (5) Jin logo ko Ajirna (Indigestion) ki samasya rehti hai aur jo adhik matra me khana khate hai unhe gathiya hone ki sambhavna jyada hoti hai.
        (6) Motapa, kuposhan (malnutrition) aur hormone imbalance se bhi gathiya rog hone ki possibility bad jati hai
        (7) Genetic karan.
        (8) Vedic ayurved ke anusar dushit aam khane ki wajah se bhi gathiya rog ho sakta hai.

    Arthrities-Gathiya-Bai Cure


    (1) Gathiya Arthritis disease in hindi - Smanytah sandhisoth mein vyakti ko kabz ki sikayat rehti hai. rogi ko chahiye ki voh sareer mein kabz na hone de. ishke liye erand-tail ka upyog labhprad hota hai.

    (2) Gathiya ayurvedic treatment - Rogi ko tail, makhan, ghee aadi mein tale gaye pdaartho se perhez karna chahiye. ishi prakar bhindi, kathal, bhat(chaval) ka nisedh karna chahiye. gehun, jwar, joun ka prayog karna upyukt hota hai. apne aahar mein atyant garam masalon aur mirch ka prayog uchit nahi hai. south, kali mirch, jeera, laung aur daalchini jaise madhyam masalon ka prayog labhdayak hota hai.

    (3) Gathiya Arthritis disease in hindi - Achar, imli, sirka aadi pdartho se rogi ko door rehna chahiye. rogi ichaa ho, to voh thodi matra mein chach le sakta hai, parantu voh khatti na ho.

    (4) Gathiya bimari - Dard ke samay aap sun bath le sakte hai    (5) 5  se 10 gram methi dane ka churan banakar subah-sham pani ke saath le

    Gathiya bai-Arthrities Ayurvedic Treatment

    (5) Arthritis knee treatment - Nimbu- mausam ke anushar garam pani mein nimbu nichod kar nitya nimbu-pani peena labhdayak hai. arthat nimbu, sehed, pani mila kar piyen.

    Gathiya Bai upchar
    Gathiya Ka gharelu upchar
    (6) Treatment for Arthritis in hands - Gehun- gehun ke ghass ka rass peena iss rog mein bahut labhdayak hai. khatte falon ke rass, sabjiyan jaise lauki, tmatar ka rass peekar hi rehne se yeh rog theek ho jata hai.

    (7) Arthritis treatment diet - Dahi- aamwat ke rogi ke liye dahi ka sevan hanikarak hai. taaza meetha dahi alpmatra mein keval dopaher ke bhojan mein liya ja sakta hai. maans, masoor ki daal bhi  ishme hanikarak hai. 

    (8) Is there a cure for Arthritis -Calcium, fashforus- yadi rog ka prabhav haddiyoun per ho jaye to calcium, fashforus wale pdarth adhik le.

    (9) Arthritis cure ayurveda - Ankurit ann ka sevan bhi aamwat mein labhkari hai.

    (10) Home remedies for Arthritis in hands - Tmatar- ghatiyaway ke rogi ke liye tmatar labhdayak hai.

    (11) Ayurvedic treatment for Arthritis by baba ramdev - Pudina- 50 patti hara pudina aur adha chamach pisha hua sukha pudina ek gilass pani mein ubalen. ubalte hue adha pani rehne per chankar nitya do baar piyen. ghatiya ke dard mein yeh labh karta hai.

    (12) Ayurvedic treatment for Arthritis knee - gazar- gazar ka rass sandhiwat, ghatiya ko theek karta hai. gazar, kakdi, chukander teeno ka rass saman matra mein milakar peene se shegra labh hota hai. yadi teeno sabjiyan uplabhd na ho to jo mile unhi ka mishrit rass peena chahiye.

    (13) Ayurvedic treatment for Arthritis in kerala - Aaloo- pazame aur patloon ke dono jeabon mein lagataar ek chota-sa aaloo rakhen to yeh aamwat se rakcha karta hai. aaloo khilane se bhi bahut labh hota hai. kachaa aaloo pesskar vaatrakt mein anguthe per lagane se dard kam hota hai. dard wale sthan per lep bhi karen.

    (14) Ayurvedic medicine for Arthritis by patanjali  - Pyaz- pyaz ka rass aur sarshon ka tail sman matra mein milakar dard grast angon per malish karne se labh hota hai.

    (15) Arthritis treatment in ayurveda in hindi - Lehsun - 
     (1) ek ganth lehsun cheal kar raat ko ek cup pani mein daal de. pratah pess kar ushi pani mein ghoal kar pijiye. ishke baad ek chamach makhan khayen. iss prakar ek saptah le. ek saptah baad 2 ganth ishi prakar dushre saptah mein, teesare saptah mein 3 ganth nitya ishi prakar le. vaat rog mein labh hoga.

    (2) Natural treatment Arthritis - Lehsun ke tail ki malish pratidin karni chahiye. lehsun ki ek badi ganth ko saaf karke, 2-2 tukde karke doodh mein ubaal lena chahiye. iss prakar taiyar ki gayi lehsun ki khir 6 saptah peene se gathiya door ho jati hai. yeh doodh raat ko pina chahiye. doodh ki khir, lehsun ko doodh mein pesskar, ubaal kar bhi le sakte hai. matra dheere-dheere badhate jana chahiye. khatai, mithai ka parhez rakhna chahiye. lehsun ko pesskar till ke tail mein milakar khane se vaat rog mein jaldi labh hota hai. yeh parichit hai.

    (3) Diet chart for Arthritis patients in hindi - Ayurvedic medicine for rheumatoid Arthritis - adha chamach lehsun ka rass ek chamach garam ghee mein milakar subah-saam nitya peene se aamwat mein labh hota hai.

    (4) Rheumatoid Arthritis treatment in ayurveda in hindi - Arthritis treatment in ayurveda in hindi - Lahsun ki kaliyo ko ek pav dudh me daal kar ubaal le phir use piye.

    (5) Arthritis in hindi language - Lahsun ke ras ko kapur me milakar malish karne se bhi dard se rahat mil jati hai.


    (16) Rheumatoid Arthritis in hindi language - Hing- jodon mein dard ho, pair mein dard ho to chane ki daal ke baraber hing ki fanki pani se ek baar nitya ek mahina le.

    (18) Rheumatoid Arthritis treatment ayurvedic medicine - Namak- gathiya ke rog mein rakt mein khatai ki pradhanta ho jati hai, namak khane se yeh khatai badhti hai. atah gathiya ke rogi ko namak ka sevan nahi karna chahiye.

    (19) Methi-
    (1) Gathiya ka desi ilaj in hindi - Arthritis gharelu nuskhe - vayu aur vaat rogon mein methi ka saak labh karta hai. methi ko ghee mein bhunkar pesskar chote-chote ladoo banaker 10 din subah-saam khane se vaat-peeda mein labh hota hai. gud mein methi ka paak banaker khilane se gathiya mitti hai.

    (2) Arthritis treatment in hindi language - chai ki 4 chamach dana methi raat ko ek gilass pani mein bhigo de. pratah pani chankar halka garam karke pine se labh hota hai. bhigi methi ko ankurit karke khayen.

    (3) Ayurvedic treatment for Gathiya in hindi - 2 chamach dana methi ko 2 cup pani mein ubalar jab adha pani rahe to pani nitya 2 baar 1 mahina piyen. isshe gathiya, kamar-dard aur kabz mein labh hota hai..



    (4) Arthritis treatment in ayurveda in hindi - Sone se pahle dard se prabhavit hisse par garam sirke se malish kare.

    (5) Ghutno ka dard ka desi ilaj - Sharir me pani ki matra santulit rakhe. 

    (6) Arthritis treatment in hindi language - Adrak- vaat, kamar, janghe, gradhsi dardo mein adrak ke rass mein ghee aur sehed milakar pina chahiye. 10 gram south, 100 gram pani mein ubalkar thanda hone per swadanusar sakkar aur sehed milaker pilayen. yeh anubhut hai. south aur haran saman matra mein milakar pess kar 2 baar rojana garam pani se fanki le. jodo ke dard mein labh hoga.

    (7) Pairon mein dard ka ilaj - Sahed- sandhivaat grast logo ko lambe samay tak sehed bahutayat mein khana chahiye. isshe bahut labh milta hai. jodo ka dard kam hota hai. 

    (8) Gathiya recipe in hindi - Garm dudh me haldi milakar din me 2-3 bar piye.

    (9) Ghutno ke dard ka rohani ilaj -Tulsi- tulsi ke patton ko ubalte hue ishki bhaap vaat grast angon per de aur ishke garam pani se dhoyen. tulsi ke patte, kali mirch, gaai ka ghee- teeno milaker sevan karen. isshe vaatvyadhi mein labh hota hai.

    (10) Gathiya ka desi ilaj in hindi - Asgand- asgand aur deshi boora (khand) sman matra mein pess kar milaker 3 chamach subah-saam garam doodh se fanki le.

    (11) Ghutno ka dard ka desi ilaj - Rett- rett tave per seak ker kapde mein potli bandh ker dard grust angon ka seak karen.

    (12) Gathiya ka desi ilaj in hindi -  Chukander- chukander khane se jodon ka dard door hota hai.

    (13) Gathiya rog treatment - Kakdi- uric acid ki adhikta se vaat rog ho to kakdi aur gazar ka rass adha-adha gilass milaker peene se labh hota hai. keval kakdi ka rass bhi pee sakte hai.

    (14) Gathiya rog treatment - Kulthi- 60 garam kulthi 1 kilo pani mein ubalen. chauthai pani rehne per chanker ushme thoda sendha namak aur adha chamach pishi hui south milaker peene se labh hota hai.(15) Arthritis treatment in hindi language -Til- till ke tail ki malish karne se vaat rog mein labh hota hai. gathiya aur vayu ke karan sareer mein dard ho to south 20 gram, akhrot ki giri 40 gram aur kala til 160 gram ek sath kutt-pessker 100 gram gud ke sath milaker rakh le. subah-saam 20-20 gram ki matra mein garam jal se sevan karen.

    (16) Rheumatoid Arthritis treatment in hindi - Namak- sujan wale sthan per namak aur baalu mitti ki potali se seak karen. 

    (17) Arthritis ayurvedic treatment in hindi Laal tel se malish karne se bhi bahut aaram milta hai.

    (18) Arthritis home treatment in hindi - Ajwaeen- (1) Ajwaeen ka ark aur ajwaeen ka tail jodon per malne se dard door ho jata hai. ajwaeen ko til ke tail mein ubal ker tail bana le.

    (19) Gathiya bai desi treatment - Ek chamach pishi hui ajwaeen mein swadanushar namak milaker pratah bhukhe pet garam pani se nitya fanki le.

    (20) Psoriatic Arthritis treatment in hindi - 2 gilass pani mein 2 chamach ajwaeen aur 2 chamach namak dalker ubalen. fir ishe sehen hone jaisa garam rehne per kapda bhigo ker dard wale ang ka seak kare.


    (21) Psoriasis Arthritis treatment in hindi - Chai- Chai peshab mein uric acid badat i hai. usse jodon ka dard aur vajan badta hai. atah vaat ke rogiyon ko chai nahi pini chahiye. 


     गठिया के दर्द में राहत
    Gathiya-Joint Pain Ayurvedic Treatment


    बीमारियों को अपने बुरे कर्मों का नतीजा मानने के बजाय यदि सकारात्मक सोच से धार्मिक आस्था और अध्यात्म का सहारा लिया जाए तो मरीजों को काफी राहत मिल सकती है। अमरीकी वैज्ञानिकों ने एक अध्ययन में पाया है कि जोड़ों के गठिया (रुमेटाॅइड आर्थराइटिस) के असाध्य दर्द से पीडि़त मरीजों को धर्म एवं अध्यात्म की जीवन शैली अपनाने से दर्द कम करने और स्वस्थ होने में काफी मदद मिली।
        सकारात्मक धार्मिक एवं आध्यात्मिक प्रवृत्तियों वाले मरीजों को अधिक प्रभावी ढंग से दर्द से मुक्ति एवं नियंत्रण पाते देखा गया। अपनी बीमारियों को पापों या ईष्वरीय प्रकोप मानने की नकारात्मक सोच दर्द बढ़ाती है। इसके विपरीत ईष्वर के निकट अथवा जीवन के प्रति जुड़ाव रखने वाले मरीजों को अधिक सामाजिक समर्थन भी मिलता है।

    गठिया रोग में ध्यान रखने  योग्य बातें-
    Arthritis Cure Hindi-

    (a) सामान्यतः संधिषोथ में व्यक्ति को कब्ज की षिकायत रहती है। रोगी को चाहिए कि वह शरीर में कब्ज न होने दे। इसके लिए एरण्ड-तेल का उपयोग लाभप्रद होता है।

    (b) रोगी को तेल, मक्खन, घी आदि में तले गए पदार्थों से परहेज करना चाहिए। इसी प्रकार, भिण्डी, कटहल, भात (चावल) का निषेध करना चाहिए, गेहूँ, ज्वार, जौ का प्रयोग करना उपयुक्त होता है। अपने आहार में अत्यन्त गरम मसालों तथा मिर्च का प्रयोग उचित नहीं है। सौंठ, काली मिर्च, जीरा, लौंग तथा दालचीनी जैसे मध्यम मसालों का प्रयोग लाभदायक होता है।

    (c) गठिया के रोगी को कुछ दिनों तक गुनगुना एनिमा देना चाहिए ताकि रोगी का पेट साफ़ हो, क्योंकि गठिया के रोग को रोकने के लिए कब्जियत से छुटकारा पाना ज़रूरी है।
    जोड़ो के दर्द-घठिया रोग के घरेलु उपचार

    Jodo Ke Dard-Gathiya rog Ke Gharelu Upchar


     अचार, इमली, सिरका आदि पदार्थों से रोगी को दूर रहना चाहिए। रोगी की इच्छा हो, तो वह थोड़ी मात्रा में छाछ ले सकता है, परन्तु वह खट्टी न हो।
     

    (1) Rheumatoid Arthritis treatment in ayurveda in hindi - नीबू- मौसम के अनुसार गर्म पानी में नीबू निचोड़ कर नित्य नीबू-पानी पीना लाभदायक है। अर्थात् नीबू, शहद, पानी मिला कर पीयें।
     

    (2) Ayurvedic treatment for Arthritis in hindi language - गेहूँ- गेहूँ के घास का रस पीना इस रोग में बहुत लाभदायक है। खट्टे फलों के रस, सब्जियाँ जैसे लौकी, टमाटर का रस पीकर ही रहने से यह रोग ठीक हो जाता है।
     


    (3) Arthritis treatment in hindi - दही- आमवात के रोगी के लिए दही का सेवन हानिकारक है। ताजा मीठा दही अल्पमात्रा में केवल दोपहर के भोजन में लिया जा सकता है। माँस, मसूर की दाल भी इसमें हानिकारक है।
     

    (4) Arthritis treatment in hindi language - कैल्षियम, फास्फोरस- यदि रोग का प्रभाव हड्डियों पर हो जाये तो कैल्षियम, फास्फोरस वाले पदार्थ अधिक लें। (5-) अंकुरित अन्न- अंकुरित अन्न का सेवन भी आमवात में लाभकारी है।
     

    (6) Arthritis treatment at home in hindi - टमाटर- गठियावाय के रोगी के लिए टमाटर लाभदायक है।
     

    (7) Ayurvedic treatment in hindi for Arthritis - पोदीना- 50 पत्ती हरा पोदीना या आधा चम्मच पिसा हुआ सूखा पोदीना एक गिलास पानी में उबालें। उबालते हुए आधा पानी रहने पर छानकर नित्य दो बार पीयें। गठिया के दर्द में यह लाभ करता है।
     

    (8) Arthritis treatment in ayurveda in hindi - गाजर- गाजर का रस सन्धिवात, गठिया को ठीक करता है। गाजर, ककड़ी, चुकन्दर तीनों का रस समान मात्रा में मिलाकर पीने से शीघ्र लाभ होता है। यदि तीनों सब्जियाँ उपलब्ध न हों तो जो मिलें उन्हीं का मिश्रित रस पीना चाहिए।
     

    (9) Treatment of Arthritis in hindi - आलू- पजामें या पतलून के दोनों जेबों में लगातार एक छोटा-सा आलू रखें तो यह आमवात से रक्षा करता है। आलू खिलाने से भी बहुत लाभ होता है। कच्चा आलू पीसकर वातरक्त में अँगूठे पर लगाने से दर्द कम होता है। दर्द वाले स्थान पर लेप भी करें। 

    (10) Treatment of rheumatoid Arthritis in hindi - प्याज- प्याज का रस तथा सरसों का तेल समान मात्रा में मिला कर दर्द ग्रस्त अंगों पर मालिष करने से लाभ होता है।

    (11) Ayurvedic treatment of Arthritis in hindi - लहसुन- (1) एक गाँठ लहसुन छील कर रात को एक कप पानी में डाल दें। प्रातः पीस कर उसी पानी में घोल कर पीजिये। इसके बाद एक चम्मच मक्खन खायें। इस प्रकार एक सप्ताह लें। एक सप्ताह बाद दो गाँठ इसी प्रकार दूसरे सप्ताह में, तीसरे सप्ताह में तीन गाँठ नित्य इसी प्रकार लें। वात रोग में लाभ होगा।
     

    (2) Arthritis ke gharelu nuskhe - लहसुन के तेल की मालिष प्रतिदिन करनी चाहिए। लहसुन की एक बड़ी गाँठ को साफ करके, दो-दो टुकड़े करके दूध में उबाल लेना चाहिए। इस प्रकार तैयार की गई लहसुन की खीर 6 सप्ताह पीने से गठिया दूर हो जाती है। यह दूध रात को पीना चाहिए। दूध की खीर, लहसुन को दूध में पीसकर, उबाल कर भी ले सकते हैं। मात्रा धीरे-धीरे बढ़ाते जाना चाहिए। खटाई, मिठाई का परहेज रखना चाहिए। लहसुन को पीसकर तिल के तेल में मिलाकर खाने से वात रोग में शीघ्र लाभ होता है। यह परीक्षित है।
     

    (3) Arthritis gharelu nuskhe - आधा चम्मच लहसुन का रस एक चम्मच गर्म घी में मिला कर सुबह-षाम नित्य पीने से आमवात में लाभ होता है।

    (12) Gharelu nuskhe for Arthritis - हींग- जोड़ों में दर्द हो, पैर में दर्द हो तो चने की दाल के बराबर हींग की फँकी पानी से एक बार नित्य एक महीना लें।

    (13) Gharelu nuskhe for rheumatoid Arthritis - नियमित रूप से ६ से ५० ग्राम अदरक के पाउडर का सेवन करने से भी गठिया के रोग में फायदा मिलता है।

    (14) Arthritis gharelu nuskhe - अरंडी का तेल मलने से भी गठिया का रोग कम हो जाता है।

    (15) Arthritis ka gharelu upchar - नमक- गठिया के रोग में रक्त में खटाई की प्रधानता हो जाती है, नमक खाने से यह खटाई बढ़ती है। अतः गठिया के रोगी को नमक का सेवन नहीं करना चाहिए।

    (16) Arthritis ke gharelu upchar - मेथी- (1) वायु एवं वात रोगों में मेथी का शाक लाभ करता है। मेथी को घी में भूनकर पीसकर छोटे-छोटे लड्डू बनाकर दस दिन सुबह-षाम खाने से वात-पीड़ा में लाभ होता है। गुड़ में मेथी का पाक बनाकर खिलाने से गठिया मिटती है।


    (2) Arthritis gharelu upchar - चाय की चार चम्मच दाना मेथी रात को एक गिलास पानी में भिगों दें। प्रातः पानी छानकर हल्का गर्म करके पीने से लाभ होता है। भीगी मेथी को अंकुरित करके खायें।
     

    (3) Gharelu upchar for Arthritis - दो चम्मच दाना मेथी को दो कप पानी में उबालकर जब आधा पानी रहे तो पानी नित्य दो बार एक महीना पीएँ। इससे गठिया, कमर-दर्द और कब्ज में लाभ होता है।

    (17) Arthritis ke gharelu upay - अदरक- वात, कमर, जाँघें, गृधसी दर्दों में अदरक के रस में घी या शहद मिलाकर पीना चाहिए। दस ग्राम सौंठ, सौ ग्राम पानी में उबालकर ठण्डा होने पर स्वादानुसार शक्कर या शहद मिलाकर पिलायें। यह अनुभूत है। सौंठ और हरड़ समान मात्रा में मिलाकर पीस कर दो बार रोजाना गर्म पानी से फँकी लें। जोड़ों के दर्द में लाभ होगा।

    (18)  Gathiya gharelu upchar - गठिया के रोगी को ना ही ज्यादा देर तक खाली बैठना चाहिए और न ही आवश्यकता से अधिक परिश्रम करना चाहिए, क्योंकि गतिहीनता के कारण जोड़ों में अकड़न हो जाती है, और अधिक परिश्रम से अस्थिबंध को हानि पहुँच सकती है।

    (19) Gathiya rog ke gharelu upchar - शहद- संधिवात ग्रस्त लोगों को लम्बे समय तक शहद बहुतायत में खाना चाहिए। इससे बहुत लाभ मिलता है। जोड़ों का दर्द कम होता है।

    (20) Gathiya ke gharelu nuskhe - तुलसी- तुलसी के पत्तों को उबालते हुए इसकी भाप वात ग्रस्त अंगों पर दें तथा इसके गर्म पानी से धोयें। तुलसी के पत्ते, काली मिर्च, गाय का घी- तीनों मिलाकर सेवन करें। इससे वातव्याधि में लाभ होता है।


    (21) Gathiya ka gharelu ilaj - रेत- रेत तवे पर सेक कर कपड़े में पोटली बाँध कर दर्द ग्रस्त अंगों का सेक करें। 

    (22) Gathiya ke gharelu upay -  चुकन्दर- चुकन्दर खाने से जोड़ों का दर्द दूर होता है।

    (23) Gathiya ka gharelu upay - ककड़ी- यूरिक एसिड की अधिकता से वात रोग हो तो ककड़ी और गाजर का रस आधा-आधा गिलास मिलाकर पीने से लाभ होता है। केवल ककड़ी का रस भी पी सकते है।

    (24) Gathiya rog ka gharelu upchar in hindi -  कुलथी- 60 ग्राम कुलथी एक किलोे पानी में उबालें। चैथाई पानी रहने पर छानकर उसमें थोड़ा सेंधा नमक और आधा चम्मच पिसी हुई सौंठ मिलाकर पीने से लाभ होता है।

    (25) Gathiya rog ka gharelu ilaj - तिल- तिल के तेल की मालिष करने से वात रोग में लाभ होता है।


    (26) Gathiya bai ka gharelu ilaj - नमक- सूजन वाले स्थान पर नमक या बालू मिट्टी की पोटली से सेक करें।

    (27) Gathia ke gharelu upchar - अजवाइन- (1) अजवाइन का अर्क या अजवाइन का तेल जोड़ों पर मलने से दर्द दूर हो जाता है। अजवाइन को तिल के तेल में उबाल कर तेल बना लें।
     

    (2) Gathiya bai ka ilaj - एक चम्मच पिसी हुई अजवाइन में स्वादानुसार नमक मिलाकर प्रातः भूखे पेट गर्म पानी से नित्य फँकी लें।
     

    (3) Gathiya disease - दो गिलास पानी में दो चम्मच अजवाइन और दो चम्मच नमक डालकर उबालें। फिर इसे सहन होने जैसा गर्म रहने पर कपड़ा भिगों कर दर्द वाले अंग का सेक करें।

    (28) Gathiya disease home remedies - चाय- चाय पेषाब में यूरिक एसिड बढ़ाती है। उससे जोड़ों का दर्द व वजन बढ़ता हैं। अतः वात के रोगियों को चाय नहीं पीनी चाहिए।                 

    (29) Arthritis and joint pain medicine - जैतून के तेल से भी मालिश करने से भी गठिया की पीड़ा काफी कम हो जाती है।

    (30) Arthritis ayurvedic treatment - जस्ता, विटामिन सी और कैल्सियम के सप्लीमेंट का अतिरिक्त डोज़ सेवन करने से भी काफी लाभ मिलता है।

    (31) Arthritis treatment in hindi - समुद्र में स्नान करने से भी गठिया के रोग में काफी तक आराम मिलता है।

    (32) Gathiya dard ka ilaj - सुबह उठते ही आलू का ताज़ा रस और पानी को बराबर अनुपात में मिलाकर सेवन करने से भी काफी फायदा मिलता है।

    (33) Gathiya rog -  सोने से पहले दर्द वाली जगह पर सिरके से मालिश करने से भी पीड़ा काफी कम हो जाती है।


    (34) Gathiya rog gharelu upchar - भाप से स्नान और शरीर की मालिश गठिया के रोग में काफी हद तक लाभ देते हैं।

     (35) Gathiya bai desi treatment - गठिया या वायु के कारण शरीर में दर्द हो तो सौंठ 20 ग्राम, अखरोट की गिरी 40 ग्राम तथा काला तिल 160 ग्राम एक साथ कूट-पीसकर 100 ग्राम गुड़ के साथ मिलाकर रख लें। सुबह-षाम 20-20 ग्राम की मात्रा में गरम जल से सेवन करें। 

    (36) Gathiya rog ke gharelu upay - असगंद- असगंद और देषी बूरा(खांड) समान मात्रा में पीस कर मिलाकर तीन चम्मच सुबह-षाम गर्म दूध से फँकी लें।

    (37) Treatment of gathiya rog निशोथ की छाल का चूर्ण घी के साथ दिन में २-३ बार सेवन करने से गठिया (Gathiya ) रोग में आराम मिलता है.

    (38) Treatment of gathiya in ayurveda १५ ग्राम विदारे का चूर्ण २०० मिली ,गाय के दूध के साथ मिलकर सुबह शाम पिए. इससे गठिया (Gathiya ) रोग ठीक होगा.

    (39) treatment of gathiya disease गुडची, हरड़, बहेड़ा तथ आंवला सभी ४०-४० ग्राम लेकर यवकूट कर ले फिर इसे ६५० मिली पानी में मिलाकर पकाये. जब आठवा हिस्सा पानी रह जाये तो उतार कर छान ले. फिर इस क्वाथ में १० ग्राम गुग्गल मिलाकर पिए. यह गठिया (Gathiya )  में अच्छा नुस्खा है.

    (40) gathiya rog treatment in hindi ५० मिली गाय के दूध में १० मिली अरण्ड का तेल मिलाकर पीना भी गठिया (Gathiya )  रोग में लाभदयाक है.

    (41) gathiya vaat treatment - नारियल के तेल में सेंधा नमक मिलाकर उसे गरम करके लेप करे और ऊपर से कपडे की पट्टी रखकर बढे गठिया (Gathiya ) के दर्द से आराम मिलेगा.

    • Blogger Comments
    • Facebook Comments
    Item Reviewed: Arthritis-Gathiya Bai Treatment Rating: 5 Reviewed By: Gharelu Upay
    loading...
    Scroll to Top