728x90 AdSpace

Loading...
  • Latest News

    Gharelu Upchar. Blogger द्वारा संचालित.

    Dhatu Rog- Gupt Rog धातु रोग -गुप्त रोग ठीक करने 11 अचूक आयुर्वेदिक उपाय

    Gupt Rog, Dhat Rog Ke Gharelu Upchar, Dhat rog ke ayuvedic upchar, Dhat rog ke ayuvedic upay, Dhat rog ke gharelu upay, Dhat rog ka ilaaj

    Dhatu Rog insan ke dil-dimag ki shakti ko kamjor karke sharir ko bejan bana deta hai. Jab kisi man ko dhatu rog hota hai to peshab jate samay ya potty ke samay thoda sa bhi jor lagne par ling ya penis ke muh se virya ki drop nikal ati hai. Dhatu Rog se mardana kamjori ho jati hai, ling chota jo jata hai, shigrapatan, napunsakta ki rog ya bimari ho jati hai. Dhatu Rog hone ka main reason hai virya ya dhatu ka patla hona. Dhatu patla hone bhut se karan ho skte hai kam age me bhut jada hastmaithun ya hand practice, sex aadi bhut se karan ho skte hai. Dhatu Rog me ling ki nas kamjor ho jati aur ning ka size chota ho jata hai.

    Dhatu Rog - Gupt Rog Treatment Hindi

    धात रोग के घरेलू उपचार
    Shigrapatan Ilaj
    Dhatu Rog- Gupt rog
    धातु Dhatu रोग Rog यह रोग व्यक्ति के दिल-दिमाग की शक्ति को कमजोर करके शरीर को बेजान बना देता है। इस शिकायत में मल या मूत्र के समय थोड़ा-सा भी जोर लगाने पर तुरन्त इन्द्री के मुख से वीर्य की बूंद टपकने लगती है या लार निकलने लगती है। यह शिकायत उन्हीं लोगों में ज्यादा होती है जिनका वीर्य किसी न किसी कारण से काफी पतला बन चुका होता हैं और इन्द्री की नसें भी कमजोर व ढीली प़ड़ चुकी होती हैं क्योंकि ऐसी स्थिति में इन्द्री की नसों में पतले वीर्य को रोकने की शक्ति नहीं रहती और थोड़ा सा दबाव पड़ने की स्थिति में धात बहने लगती है जिसके अधिक समय तक गिरने से व्यक्ति की कमर-शरीर व पिंडलियों में दर्द महसूस होने लगता है। उठते-बैठते चक्कर व कमजोरी की अनुभूति होती है जिससे वह अपना रोजाना का काम-काज भी पूरी चुस्ती-फुर्ती से नहीं कर पाता। ऐसी हालत में जब वह इधर-उधर के भ्रामक विज्ञापन पढ़कर ताकत-जवानी वाले किसी क्लिनिक या दवाखाने में जाता है तो वहां उसे बिना सोचे-समझे कुछ बाजारू उत्तेजक गोलियां दे दी जाती हैं। उसकी वास्तविक कमजोरी का कारण जानने की कोई कोशिश नहीं की जाती। धातु रोग का असली इलाज वही होता है जो पहले वीर्य की बर्बादी को रोके और ताकत को शरीर में संभालने की क्षमता पैदा करे उसके बाद ही ताकत बढेगी।
    धात रोग का प्रभावी हर्बल उपचार

    Dhatu Rog Ke Karan 

    धात रोग के कारण
    मल या मूत्र के समय थोड़ा-सा भी जोर लगाने पर तुरन्त इन्द्री के मुख से वीर्य की बूंद टपकने या लार निकलने का कारण वीर्य काफी पतला होना होता हैं तथा इसका कारण इन्द्री की नसें कमजोर व ढीली पढ़ जननी होती हैं क्योंकि ऐसी स्थिति में इन्द्री की नसों में पतले वीर्य को रोकने की शक्ति नहीं रहती और थोड़ा सा दबाव पड़ने की स्थिति में धात बहने लगती है तथा इस सबका मुख्य कारण हमारे शरीर में विटामिन्स की कमी होना, हारमोंस का बहुत अधिक प्रभावित होना तथा खान-पान की आदत का ख़राब होना, उचित मात्र में भोजन न करना और गलत विचारो का मन में रखना, हस्तमैथुन करना तथा फलों का सेवन न करना आदि कारण शामिल हैं

    Dhatu Rog Lashan

    धात रोग के लक्षण
    इस समस्या में मल या मूत्र के समय थोड़ा-सा भी जोर लगाने पर तुरन्त इन्द्री के मुख से वीर्य की बूंद टपकने लगती है या लार निकलने लगती है। इस समस्या में वीर्य किसी न किसी कारण से काफी पतला बन चुका होता हैं और इन्द्री की नसें भी कमजोर व ढीली हो जाती हैं क्योंकि ऐसी स्थिति में इन्द्री की नसों में पतले वीर्य को रोकने की शक्ति नहीं रहती और थोड़ा सा दबाव पड़ने की स्थिति में धात बहने लगती है तथा व्यक्ति की कमर-शरीर व पिंडलियों में दर्द महसूस होने लगता है। उठते-बैठते चक्कर व कमजोरी की अनुभूति होती है जिससे वह अपना रोजाना का काम-काज भी पूरी चुस्ती-फुर्ती से नहीं कर पाता।

    Dhatu Rog Ke Ayurvedic Gharelu Upchar Upay 

    धात रोग होने के कारण 
    १- Dhatu  Rog अधिक धूम्रपान करने से तथा अधेड़ उम्र में धूम्रपान, चर्बीयुक्त भोजन करने से नपुंसकता आ जाती है। 
    २- सिगरेट- यौन शक्ति पर विपरीत प्रभावः में डाॅ0 वीरेन्द्र सिंह चर्म व Dhatu  Rog में विषेषज्ञ ने सिद्ध किया है कि नियमित रुप से 10 सिगरेट या अधिक 6.12 माह तक पीने से यौनषक्ति में कमी हो जाती है।
    3- धूम्रपान सिगरेट- विष्वविख्यात चिकित्सक एवं यौन शास्त्री डाॅ0 इर्षफील्ड के अनुसार अत्यधिक धूम्रपान पुरुषो के यौन क्रिया-कलापों पर घातक प्रभाव डालता है। इन्होने अपनी पुस्तक ‘सेक्सुअल पैथालोजी’ में लिखा है कि अत्यधिक धूम्रपान नपुंसकता का कारण बन सकता है। इससे शरीर में स्थित यौन हारमोन उचित क्रिया नहीं कर पते साथ ही ये Dhatu  Rog को बढ़वा देते है.

    Dhatu shakti badhane ke Ayurvedic Upay

    वीर्य एवं यौन शक्ति बढ़ाने वाले नुस्खे : -
    (1-) Dhatu rog medicine -  आम- दो-तीन माह आम का अमरस पीने से मर्दाना ताकत आती है। शरीर की कमजोरी दूर होती है। शरीर मोटा होता है। वात संस्थान  और काम शक्ति को उत्तेजना मिलती है। 
    (2-) Dhatu rog ki ayurvedic dawa -  नारियल- नारियल कामोत्तेजक है। वीर्य को गाढ़ा करता है।
    (3-) Dhatu rog -  प्याज- प्याज कामवासना को जगाता है। वीर्य को उत्पन्न करता है। देर मैथुन करने की शक्ति  देता है। ईरानी नागरिक याह्या अली अकबर बेग नूरी ने 88 वर्ष की आयु में 168 वाँ विवाह किया। इस आयु तक उसकी जवानी बरकरार रहने का कारण है, उसका एक किलो कच्चा प्याज खाना। 
        मर्दाना शक्ति बढ़ाने के लिए प्याज का रस और शहद मिलाकर पियें। सफेद प्याज का रस, शहद, अदरक का रस, देषी घी, प्रत्येक 6 ग्राम- इन चारों को मिलाकर चाटें। एक महीने के सेवन से नामर्द भी मर्द बन सकते हैं।
    (4-) Dhatu rog gharelu upchar in hindi -  चिलगोजे- यह अत्यधिक मर्दाना शक्तिवर्द्धक है। यह 15 नित्य खायें।     
    (5-) Dhatu Rog dur Karne Ke Upchar- शहद- शहद और दूध मिलाकर पीने से धातु क्षय में लाभ होता है। शरीर में बल-वीर्य की वृद्धि होती है। शुक्र-वर्द्धक है। मर्दाना ताकत बढ़ाने के लिए यह अत्यन्त लाभदायक है। इससे वीर्य दोष भी दूर हो जाता है। 

     (6-) Dhatu rog ki dawa in hindi -  तुलसी- तुलसी की जड़ या बीज चैथाई चम्मच, पान में रख कर खाने से शीघ्र-पतन दूर होता है। देर तक रुकावट आती है। वीर्य पुष्ट होता है। 
    (7-) Dhatu rog treatment - उड़द- उड़द का एक लड्डू खाकर ऊपर से दूध पीने से वीर्य बढ़कर धातु पुष्ट होती है और रतिषक्ति बढ़ती है। 
     (8-) Dhatu rog ke dawa - दूध- प्रातः नाष्ते में एक केला, 10 ग्राम देषी घी के साथ खाकर ऊपर से दूध पीयें।    
    (9-) Dhatu rog ka ilaj hindi me - गाजर- गाजर हर व्यक्ति के लिए शक्तिवर्धक ;ज्वदपबद्ध है। वीर्य को गाढ़ा करती है। मर्दाना कमजोरी को दूर करने में रामबाण है। गाजर का रस पीना चाहिए।  
    (9-) Dhatu rog in female in hindi - चिलगोजे- यह अत्यधिक मर्दाना शक्तिवर्द्धक है। यह 15 नित्य खायें।
    (10-) Dhatu rog medicine in hindi - शहद- शहद और दूध मिलाकर पीने से धातु क्षय में लाभ होता है। शरीर में बल-वीर्य की वृद्धि होती है। शुक्र-वर्द्धक है। मर्दाना ताकत बढ़ाने के लिए यह अत्यन्त लाभदायक है। इससे वीर्य दोष भी दूर हो जाता है।
     (11-) Dhatu rog ki dawa - तुलसी- तुलसी की जड़ या बीज चैथाई चम्मच, पान में रख कर खाने से शीघ्र-पतन दूर होता है। देर तक रुकावट आती है। वीर्य पुष्ट होता है। 
    (12-) Dhatu rog ka ilaj - आद्रक- आद्रक, शरीर मे गर्मी लाती है और ब्लड सर्क्युलेशन सही करती है. एक स्पून आद्रक पेस्ट ले औ राइज़ शहद के साथ चाट ले. आप चाहे तो इससे दूध मे मिला ले. इससे बहुत लाभ मिलता है. ये प्रोसेस सोने जाने से पहले ही करे.
     (13-) Dhatu rog ka upchar in hindi - उड़द- उड़द का एक लड्डू खाकर ऊपर से दूध पीने से वीर्य बढ़कर धातु पुष्ट होती है और रतिषक्ति बढ़ती है।

    Ayurvedic Treatment For NAPUNSAKTA (IMPOTENCY) Ka Desi Illaj -

     (1-) Ayurvedic treatment for Dhatu rog - Subh ke naste me 2 chuhare(छुहारे) aur 10 kismiss(किसमिस) pani(पानी) me ubal le aur 2 chammach (चम्मच) shehad(शहद) me daalkar khaye. Aur rat me bheegi hui bdam(बदाम ) ki giri ko danto se chaba chaba kar malai ki tarh muh me balna le aur sath hi sath halka garm-garm dhudh piye isse apka viry(वीर्य) banega aur apki Dhatu rog ya Importany ya namardi bhi khatm ho jayegi apki Mardana Shakti bhi vapas ayegi.
    (2-) Peshab me Dhatu jana - Dhatu Rog me Shatavari(शतावरी), musli( मूसली), konch(कोंच) ke beej, gokharu(गोखरू), asagandha(असगंध) – sabhi ko barabar quantity me lekar kut(कूट) pees le aur kapde me chaan le aur 5 garm is chran ko garm dudh ke sath le isse Napunsakta(Impotency) bilkul khatm ho jayrgi.Ye desi illaj bhut fayda karta hai.
    (3-) Dhatu rog in hindi - Dhatu Rog me kali musli( मूसली ke churan ko bhas( भैस) ke ghee me milakar khaye bhut jada fayda hoga namardi me .
    (4-) Dhatu rog ka ilaj hindi - Aam ki manjri ko chaya me sukha le aur iska churan bana le 3 gram fak k halke garm milk piye. Isse apka virya gadha hoga aur sex-power bhi badhegi aur sath me sex karne time period bhi badhega
    (5-) Dhatu Treatment - Safed kaneer ki paki hui fali ke bitar se nikle huye beejo ka peeskar churan bana le aur 1st day 1 gram churan  ko makhan ke sath khaye . 2nd  day 1.5 gram churan ko makhan se sath khaye. 3rd day 2 gram chran makhan ke sath khaye. Is trah .5 gram roj badhye aur usko 7 din tak le aur agr khane me sukha lage to ise garm dhudh ke le. Is Ayurvedic Nuskhe se Dhatu rog ek dum khatm ho jayegi.
    (6-) Dhatu Ilaj - Muli ke beej 100 gram lekar iska churan bana le aur 5 gram roj le makhan yam alai ya halka garm dudh ke sath lekin 5 gram muli ke churan ko subh aur sham ko le isse apki Napunsakta(Impotency) dur ho jayegi.
    (7-) Dhatu Upchar - Muli le beejo ko tel me gram karke apne ling me malish karne se naro me jaan ayegi aur aur imprtency dur ho jayegi lekin upper diye Ayurvedic desi illaj me koi ek apnakar is is nuskhe ko  sath me try kariye yakeen maniye apko vigra khane koi jarurat  nhi padegi. Marji ho sare Ayurvedi illaj apnaiye koi side effect nhi hoga.
    (8-) Dhatu Dur Karne Ke Nuskhe - Apne ho skta kabutar khaye ho pr mai aj beet ke desi illaj batne jar aha hu ap thoda sendha namak le aur kabutar ke beet aur jaurat ke hisab se sahad le aur is sab ko  achi tarh mila le usko apne ling me malish kare aur 1 ghanta bad gram pani se dhul le aisha karne se apka ling mota ho apko  kisi mahge mahge jaise  ye oil vo  oil japani oil afgani oil lene koi need nhi padegi iska desi nuskhe ka koi side effect nhi hai bhai.
    (9-) Dhatu Upchar - Dhatura, shahed, kapoor aur para is sab  ko peeskar  ling par lep laga le isse apka ling mota jayega. Aur sath hi ling ki lambai bhi badh jayegi.
    (10-) Dhatu Ayurveda Treatment - Shatavari ka churan 15 gram, safed musli ka churan 15 gram, mulethi ka churan 12 gram, asvgandha nagori ka churan 15 gram aur akarkara ka churan 3 gram is sab ko ek sath milakar ek churan bana le phir 5-5 gram ki pudiya bana le aur roj subh 5 gram ki churan ki pudiya fak kar  upar se garm doodh piye. Napunsakta(Impotency) ke is Ayurvedic illaj ko 1 mahine tak kare isse apki mardan Kamjori dur ho jayegi.
    (11-) Dhatu Remedies -  2-3 mahine sham ke doudh me amras banakar peene se mardana takat vapass aa jati hai.
    (12-) Dhatu Upay - Daily meetha anar khane se ya uska juice pine se guptango me jaan aa jati hai hai.
    (13-) Gupt Rog Treatment - Daily gajar ko kisi bhi rup me khane se mardana Shakti aati hai viry gadha bhi hota hai.
    (14-) Gupt Rog Ilaj - Aak ke phoolo ko kut peeskar adha litre ras nikal le aur 250 gram aak ke doudh ko  1 kilo desi ghee me pakye par isko dhemi  aag me pakaye jisse pani jal jaye aur isko cow ya buffalo ke milk me  3 spoon mila kar piye. Is nuskhe apki mardana Shakti paka vapass jayegi aur sath hi sex power bhut jada badegi.
    (15-) Gupt Rog Upchar - Agr ap aak ke leaves ka raas nakal  ne me problem hoti hai to ap 1 kg desi ghee me aak ke leaves ko pudi ki tarh tal le aur in fry ki leaves ko ek uppar uppar ek rakhe jab jo bacha hua desi ghee (pan me bacha hua)  usko  botal me bhar le aur ek chamach  khane me milkar khaye ,paka apki khoi hui javani vapaas aa jayeg


    • Blogger Comments
    • Facebook Comments
    Item Reviewed: Dhatu Rog- Gupt Rog धातु रोग -गुप्त रोग ठीक करने 11 अचूक आयुर्वेदिक उपाय Rating: 5 Reviewed By: Gharelu Upay

    News Ticker

    loading...
    Scroll to Top