728x90 AdSpace

  • Latest News

    Gharelu Upchar. Blogger द्वारा संचालित.

    अनियमित मासिक-धर्म, रुके हुए पीरियड चालू करने २७ घरेलु उपचार -Irregular Periods, Girls Period Problem,Mahawari, Period, Mc Rukhne Treatment hindi

    ap padhege- Period Problem, Girls Period Problem in Hindi, Gharelu Nuskhe For Irregular Periods In Hindi, Aniyamit Masik Dharm ke Lakshan, Period Lane ke Gharelu Upchar, Ayurvedic Treatment for Irregular Periods Hindi, Irregular Periods Symptoms, Home Remedies for Irregular Periods, Aniyamit Period rokne ke gharelu Nuskhe, Irregular Periods Causes hindi

    Period Problem- Irregular Periods in Hindi

    Irregular Periods Causes hindi- Aniyamit Masik Dharm ke Karan

    माहवारी रुकने के कारण- आलस्य. खून के कमी, मैथुन दोष, माहवारी के समय अधिक बर्फ कहना, सर्दी लग्न, पनि में भीगना, जद घूमना, अचानक शोक, क्रोध, दुःख, मानसिक तनाव, मौसम बदलने के समय खान-पान में असावधानी करना आदि कारण से माहवारी रुक जाती है या देर से आती है.

    Irregular Periods Symptoms Hindi- Aniyamit Masik Dharm ke Lakshan

    माहवारी रुकने के  लक्षण-  जरायु के स्थान में दर्द, भूख न लग्न, गैस बनना, कब्ज, स्तनों में दर्द, दूध का काम आना, अतिसार, दिल धड़कना, सास लेने में तकलीफ, कान में तरह तरह की आवाजे सुनाई देना, नींद न आ आना, बेहोश होना, शरीर में कही भी सूजन आना, मानसिक विकृति, हाथ, पैर, कमर में दर्द, आदि इसके लक्षण है
    Aniyamit Masik Dharm Gharelu Upchar
    Girls Period Problem Treatment hindi
    माहवारी जादा आने पर-
     मासिक धर्म में दर्द- गर्भाशय में अबुर्द बन जाना, गर्भाशय का मुड़ जाना, गर्भशय या डिम्ब-ग्रंथियों का रहिक रूप से न बन पाना, हिस्ट्रीरिया, स्नायु दुर्बलता, पीलिया, गठिया-बाई  रोग हो जाना, गर्भाशय अपने स्थान से है जाना, जरायु में रक्त, ऋतू के समय मैथुन, सर्दी लग्न आदि कारण से मानसिक धर्म होने पर दर्द होता है.
    रजोनिवृत्ति- ४०-५० वर्ष की आयु में मानसिक धर्म चला जाता है तो ये स्वाभाविक है. इससे पहले जाता है तो सकथ सदमा, कठिन प्रसव के बाद गर्भाशय का तेजी के साथ असाधारण रूप से संकुचन होना आदि कारण है रजोनिवृत्ति होने के.
    रजोनिवृत्ति होने के  लक्षण- 
    (1-) कमर और जांघ में तीव्र दर्द होना, सर दर्द होना, आलस्य, काम करने का मान न करना आदि रजोनिवृत्ति के लक्षण है. ऋतुस्राव के साथ या ऋतुस्राव के पहले दर्द शुरू हो जाता है.

    (2-) जरायु का आकर छोटा हो जाता है, योनि संकुचित होना, साधारण दुर्बलता, सर दर्द, कब्ज मिर्गी, आँख, कान, नाक आदि में उत्ताप की झलक, कलेजा धड़कना आदि रजोनिवृत्ति के लक्षण है.

    Ayurvedic Treatment for Irregular Periods Hindi

    (3) काली मिर्च के एक चुटकी चूर्ण में एक छोटा चम्मच शहद मिलकर सुबह-शाम लगभग १.५ महीने तक लेने से रजस्राव की अनियमतता  और अन्य दोष दूर हो जाते है.
    (4) मासिक धर्म (Irregular Period) साफ़ न आने व दर्द के साथ थोड़ी थोड़ी में Ayurvedic Treatment को जरूर अपनाए. इस नुस्खे (Nuskhe) में अमलतास का गुदा ४ ग्राम, नीम की चाल ३ ग्राम और ३ ग्राम सोथलेकर अच्छी तरह से कुचल ले. इसमें गुड १० ग्राम मिलकर ८ गुना पनि लेकर उबल ले. जब एक चौथाई Water रह जाये  तो उतर छान ले. मासिक धर्म शुरू होने पर इस काढ़े को प्रतिदिन एक बार पिए. मासिक धर्म खुलकर आएगा और दर्द में भी आराम मिलेगा.
    (5) केसर के २-३ धागो को अकलकरा चूर्ण (१ ग्राम) के साथ दिन में ३ बार लेने से दर्द भरे Aniyamit Masik Dharm  खुलकर आराम से आएगा और साथ पीरियड (Period) साफ़ आएंगे.
    (6) दूब  रस एक छोटा चम्मच से आधा चम्मच लेने से Period आराम से होता है.
    (7) सुबह के समय बाबुल का गोंद खाने से पीरियड (Irregular Periods) में दर्द नहीं होता है.
    (8) मेथी और मूली के बीज बराबर अनुपात में लेकर पीसकर १० ग्राम का चूर्ण बना ले. उसके बाद १-१ ग्राम चूर्ण जल के साथ लेने से Irregular Periods बहुत  फायदा होता है. ये Ayurvedic Treatment बहुत आसान है.
    (9) मासिक धर्म के दौरान यदि कमर दर्द होता है, तो एक चम्मच तुलसी का रस ले ले कमर दर्द ठीक हो जायेगा.
    (10) आधे से लेकर एक ग्राम की मात्र में केशर को गरम-गरम दूघ के साथ लेने से पीरियड में दर्द दूर हो जाता है समान्य स्राव होता है.
    (11) १ गरम केसर के साथ आधा गरम कपूर खरल करके Irregular Periods में ले, पीरियड शुरू होने से ३ दिन पहले  सुबह समय लेने से पीरियड बिना रुके और बिना दर्द के हो जाते है.
    (12) कच्चे पपीते का सेवन Irregular Periods पीरियड परेशानी दूर करता है.
    (13) ग्वारपाठे का २ चम्मच रस नियमित रूप से पिन चाहिए. यह रस खली पेट ७ दिन तक ले. इससे मासिक से संबधित सारी परेशानी दूर हो जाएगी. और रक्त स्राव सहज रूप से होने लगता है.
    (14) तिल के काढ़े में सोंठ, काली मिर्च, छोटी पीपली डालकर पिलाने से Aniyamit Masik Dharm दूर हो जाती है 
    (15) भीगी मेथी गुड के साथ खाने से गर्भाशय के रोग नहीं होते और मासिक धर्म के नियमन में किसी प्रकार का अवरोध नहीं होता है.
    (16) मटर माहवारी की रूकावट को दूर करता है.

    Period rokne ke gharelu Nuskhe

    (17) अनार के छिलके (सूखे) पीसकर छान ले. इसकी एक चम्म्च की फंकी ठन्डे पानी से ले अगर बहुत जादा पीरियड हो रहे तो बंद हो जायेगा.
    (18) २० ग्राम धनिया २०० ग्राम पानी में उबले, जब 50 gram पानी रह जाये तो छानकर मिश्री मिलकर पिला दे. इससे मासिक धर्म में अधिक रक्त आना बंद हो जायेगा
    (19) पिसा हुआ धनिया, देसी बुरा (शक्कर), घी- तीनो को मिलकर खाने से रक्त गिरना बंद हो जाता है.
    (20) धनिया पीसकर चावल के पानी के साथ सेवन करने से पीरियड में अधिक खून आना बंद हो जाता है 

     Period Chalu Karne Ke Gharelu Upchar

    (21) मूली के बीज, गाजर के बीज, मेथी के बीज- इस तीनो को कूट पीस ले. मासिक धर्म के दिनों में १०-१० ग्राम चरण पानी के साथ ले. इससे कई सालो का रुक हुआ मासिक धर्म भी खुल जाता है.
    (22) काला तिल ३ ग्राम, सोंठ, काली मिर्च, पीपल ३-३ ग्राम, भारंगी ३ ग्राम- इन सबका काढ़ा (२५० ग्राम पानी में उबालें, जब चौथाई पानी रह जाये तब उतार ले) बनकर उसमे गुड या शक्कर मिलकर रोज  सुबह शाम पींसे सका हुआ पीरियड चालू हो जाता है.यदि शरीर में रक्त की कमी है तो दूध, घी, मिश्री आदि चीज़े खा कर तब काढ़ा पिए. खट्टे चीज़े न खाये. उड़द, दूध, दही अधिक खाये.
    (23) रक्त स्राव अधिक होने या अनियमित होने पर अशोक की छाल दूध में पककर देने से लाभ होगा और गर्भाशय साथ और वेदना दूर होती है. रक्तस्राव अधिक होने या घाव होने पर अशोक की छाल के काढ़े से योनि को इंजेक्शन (सुई निकल के) या पिचकारी से डाले.
    (24) करेले का रस चीनी में मिलकर पीने से मशिक धर्म नियमित रहता है. करेले की सब्जी नियमित कहते रहने से शरीर को अच्छी  तादाद में फॉस्फोरस मिल जाता. यह भूख बढ़ने वाला होता है. और गर्मी भी निकलता है. परन्तु जादा मात्र में न खाये.
    (25) ११ तोला नीम नीम की सुखी पत्ती, ११ पत्ती tulsi की. १-१ तोला हरड़-बहेड़ा-आवला, १-१ तोला साथ, पीपल, काली मिर्च और २ तोला जवाखार- इस सबको कूट पीसकर कपडे में छान ले और और चूर्ण को शीशी में भर कर रख ले.  अगर महिलाओं को  दर्द के साथ मासिक स्राव  होता है तो पनि के साथ इस चूर्ण को ५-५ ग्राम ५-६ दिन तक लेने से भुत जादा पीरियड में फायदा होगा.इस नुस्खे को ५-६  दिन पहले पीरियड आने  से ले.
    (26) केले के पेड़ की छाल का १ ग्राम रस लेकर ७ दिन तक खाली पेट सुबह लेने से महिलाओं का रुका हुआ पीरियड भी आ जाता है.
    (7) ८ चम्मच टिल एक गिलास पानी में थोड़ा सा गुड या १० काली मिर्च पिसी हुई डालकर उबले. जब आशा गिलास रह जाये तो ठंडा होने पर पिए  ले.इस प्रकार सुबह शाम दो बार रोज पिने से पीरियड के समय तक पीते रहे. इससे उपचार से मासिक धर्म खुल कर आता है   

     Irregular Periods Symptoms

    Garbhashaye  ki  samasay  hi aniyamit mahwari ke liye ek mukhaye karan hai. Agar grabhpaat huya hai to aapko home pregnancy test karvana chahiye. Ya grabhpaat hone ke baad sahi tarik se ilaj karvana chahiye nahi to yeh aage chal kar hamare masik dharm ke liye pareshani ki baat ho jati hai. Bhavnatamak tanav bhi aapke sharir mai hormone parivartan karta hai,jisse  aapki mahwari ko aniyamit karta hai. Gambhir bhavnatamk tanav se bachne ke liye meditation ya yoga karna chahiye.


    Girls Period Problem in Hindi - Period Lane ke Gharelu  Upchar

    (1) Gajar aur chukandar ka ras piye.
    (2) Masaledar or garam cheeze khane se bache.
    (3) Din mai ek baar buttermilk pijiye.
    (4) Angur Juice bhi period ko niyamit kar sakta hai.
    (5) 2 se 3 Anjeer ko pani mai boil kar lijiye or uska pani pijiye.
    (6) Din mai do baar ek chammach til ka powder khaiye.
    (7) Nimbu ka ras aur dalchini ka powder ko ek saath milakar use rozana pi sakti hai.
    (8) Kacha papita aur aloe vera ka juice pijiye ye kaafi labhkari hoga.

     Period lane ke gharelu nuskhe in hindi 

    1. Til ka kare prayog irreregular period mai-Til ka powder roj khaaye ya to til aur gud roj chabaye to animiyat mahwari bandh hoga.
    2. Angoor bhi hai faydemand- Angoor(grapes) ka sevan kare aur do mahino me hi animiyat mahwari se aap ko milega chutkara.
    3. Gajar- Sardiyon mein gajar khaaye ya to phir gajar ka juice peene ki aadat rakhe.
    4. Dalchini-Shahad-Nimbu- Garam paani mein dale thoda sa shahad aur milaye adha chamach dalchini powder. Is ko peene se irregular periods samasya ka hal hoga. Is mein agar adrak ka juice mila diya jai to aur bhi achcha.
    5. Chukandar (beet)- Aahar hi aushadh hai. Beet ke kai faayde hai agar aap ise rojana khaaye salad ke roop mein. In mein se ek fayda yeh hai ki irregular periods regular ban jaayenge.
    6. Hara dhaniya aur pudina- Pudina aur hara dhaniya sabji mein mila ke khaaye, juice banake piye ya phir chatni banake khaaye.
    7. Anjeer- Sookhe anjir hamesha uplabdh hai. 4 to 5 anjeer ko doodh mein bhigo ke thodasa ubale aur yeh doodh andjeer ke saath sevan kare to irregular periods problem solve hoga.
    8. Muli-chaach- Chaach mein jeera to achcha lagta hai magar is mein muli ka ras milake sevan karne se irregular periods ke problem se aap payenge chutkara.
    9. Fal aur sabji- Kaddu, drum stick, karela, sugarcane juice, lemon (nimbu) fayda karak hai. Ho sake itne jyada fal aur sabji ka sevan kare, preferably fresh, without cooking. Papita avashya khaaye. Kacha papita jyada faydakarak hai. 
    10. Kesar-doodh- Sabhi gharelu nuskhe for irregular periods mein se sab se tasty upaay hai ki garam doodh mein kesar mila ke enjoy kare.
    11. Jeera- Jeera ko halka sa bhun le aur powder banaye. Is ko shahad ke saath mila ke goli bana le. Roj 4 to 6 goli khaate rahiye to irregular periods badlenge regular periods mein.
    12. Saunf- Bhojan ke paad ek chamach saunf beej thodasa shakkar ke saath chaba le. Chaahe ho saunf ka powder (aniseed) bana ke sharbat bana sakte hai jo doodh ya paani ke saath piye.
    13. Ayurvedic jadi booti- Irregular periods ke liye ayurved ke anmol rattan hai ashoka, lodhra, kamal ke phool aur chandan ke churn mishrit karke doodh mein mila ke peena. Dashamul aristha aur agastya rasayan bhi faydemand hai. Sabse important hai ki aap tanav mukt rahe, tandurasti banaye rakhe paushtik aur nimayat aahaar se aur vyayam kare.
    14. Yoga- Yoga to aise hi fayda karak hai magar striyo ko animiyat mahwari mein ardha chakrasan, sarvang asan ya to phir bhujang asan karna aur bhi achchi baat hai. 

    Home Remedies for Irregular Periods Hindi

    Masaaledar aur gram khadye padath, fast food aur dibaaband khadya padarth ko khane se  bache kyoki isme poshak tatvao ki kami hoti hai. Snatulit aahar khana chahiye. Phal, aanaj, sabjiya, meat, daal aur dairy product jarur khaye. Vajn kam karne ke chakkar mai yadi aap nashta ya ek time ka khana chhod deti hai. To bhi period pae asar pdhta hai. ISliye aapko teen time bhojan jarur karna chahiye.
    Sugarcane- sugarcane  juice ko rozana pijiye. Ise aapko adbhut laabh hoga . Kyoki yeh ek bahut asrdaar aur common Home Remedies for Irregular Periods in Hindi hai.
    (1) Neem ki Chhal- Raat ko neem ki chhal ko pani mai bhigo dijiye. Dusre din chhal ko chhan kar iss pani ko din mai 3 baar piye. Isse period  niyamit aane shuru ho jayenge.
    (2) Hara Dhaniya- Home Remedies for Irregular Periods  ki baate kare to, hara dhaniya aur sauf ka naam sabse pahle aata hai. Dhaniya ya sauf ke beez k ki barabar matra lijiye. Inn samagri ko raat bhar pani mai bhigo kar subah iska pani chhan kar dhaniya aur sauf ko kha lijiye.

    Home Remedies for Irregular Periods Ke Dwara Aniyamit Masik Dharm se Chutkara

    (3) Gajar aur Chukandar- Aap aniyamit mahwari ko gajar aur chukandar ke ras ko pi kar bhi theek kar sakte hai. Har din iska juice piye aur masik dharm ki iss pareshani se chutkara paiye.
    (4) Til ka Powder- Din mai 2 baar ek chammach til ka powder kahiye. Isse aapko bahut jadi aaram milega. Iska sevan rozana tab tak kariye jab tak aapko iss pareshani se aaram nahi mil jata.
    (5) Angur Juice- Angur Juice bhi period ko niyamit kar sakta hai. Aache result ke liye din mai 2 baar iss ras ka sevan jarur kijiye.  Saathi aap chahe to iske saath mai kaccha papita aur aloe vera ka juice pijiye.
    (6) Dalchini aur Niambu Ras- Aap nimbu ka ras aur dalchini ka powder ko ek saath milakar use rozana pi sakti hai. Isse bhi aapko bahut laabh milenga.
    (7) Muli- 2 se 3 muli ko pis lo, fir iss pisi huye muli mai butter milk mila lijiye. Aur rozan sone se pahle iss juice ko pijiye. Par dhyab rahe ki acche parinaam ke liye aapko isse roz pina hoga.
    (8) Anjeer- 2 se 3 Anjeer ko pani mai boli kar lijiye. Fir isse pani ko chhan kar sevan kijiye. Aisa tak tak kijiye jab tak aapko iss pareshani se chutakar na mila jaye.

    • Blogger Comments
    • Facebook Comments
    Item Reviewed: अनियमित मासिक-धर्म, रुके हुए पीरियड चालू करने २७ घरेलु उपचार -Irregular Periods, Girls Period Problem,Mahawari, Period, Mc Rukhne Treatment hindi Rating: 5 Reviewed By: Gharelu Upay
    loading...

    Popular Posts

    Scroll to Top