• Latest News

    Gharelu Upchar. Blogger द्वारा संचालित.

    Pet Dard-Stomach Pain Treatment

    Pet Dard| Stomach Pain Treatment hindi|Gharelu ilaj|desi Upchar| Ayurvedic Treatment 

    पेट में प्रायः दर्द होता रहता है। पेट में दर्द होने के अनेक कारण होते हैं। सामान्यतया पेट में दर्द भोजन न पचने से होता है। पेट में किसी भी प्रकार का दर्द हो, बोतल में गर्म पानी भरकर सेंकने से आराम मिलता है। जब तक पेट-दर्द अच्छी तरह शान्त न हो जाये तब तक खाने को कुछ नहीं देना चाहिए। सोडावाटर पीना अच्छा है। चिकित्सा कारण और दर्द के निदान के अनुसार करनी चाहिए।
    मेथी- दो चम्मच दाना मेथी में नमक मिलाकर सुबह-षाम दो बार गर्म पानी से फँकी लेने से पेट-दर्द ठीक होता है। यह 10-15 दिन लें।
    सौंफ- सौंफ और सेंधा नमक मिलाकर पीसकर दो चम्मच गर्म पानी से फँकी लें।
    काली मिर्च- काली मिर्च, हींग, सौंठ समान मात्रा में पीसकर सुबह-षाम गर्म पानी से आधा चम्मच फँकी लें।
    Pet Dard ke gharelu upchar
    Pet dard ka ilaj

    लाल मिर्च- पिसी हुई लाल मिर्च गुड़ में मिलाकर खाने से पेट-दर्द में लाभ होता है।
    नमक- एक गिलास पानी में आधा चम्मच नमक मिलाकर पीने से पेट-दर्द में लाभ होता है। गर्म पानी में नमक मिलाकर पीने से शरीर में व्यास अनावष्यक तत्त्व भी निकल जाते है।
    इलायची छोटी-  पेट-दर्द में दो इलायची पीस कर शहद में मिला कर चाटने से लाभ होता है।
    दालचीनी- दालचीनी गैस से हुए पेट-दर्द को दूर करती है। इसका अल्प मात्रा में प्रयोग करें। अधिक मात्रा में हानिकारक है।
    काॅफी- खाने-पीने से होने वाला पेट-दर्द, अफीम खाने से हुई पेट की गड़बड़ और दर्द काॅफी पीने से दूर होता है। यह भोजन के बाद पीयें।
    पानी- प्रातः चाय जैसे गर्म पानी का गिलास पीने से कब्ज, बदहजमी दूर होती है। उसमें नीबू निचोड़ कर लेने से पेट में सड़न, गैस दूर होती है। पेट-दर्द दूर होता है।
    अनार- अनार के दानों पर काली मिर्च और नमक डाल कर चूसें। इससे पेट-दर्द बन्द हो जाता है। कम-से-कम 10 दिन लें।
    छाछ- पेट में दर्द भूखे होने पर हो तो छाछ पीने से दर्द ठीक हो जाता है।
    शहद- यदि किसी चीज के खाने से पेट-दर्द हो जैसा कि प्रायः पेट-दर्द के रोगी पूछने पर बताते हैं कि पेट-दर्द खाने-पीने से बढ़ता है तो कुछ दिन शहद सेवन करने से लाभ होता है।
    नीबू- (1) 12 ग्राम नीबू का रस, 6 ग्राम अदरक का रस और 6 ग्राम शहद एक पानी में मिलाकर पीने से पेट-दर्द ठीक हो जाता है।
    (2)   नीबू की टुकड़े  में काला नमक, काली मिर्च और जीरा भरकर गर्म करके चूसने से पेट का दर्द ठीक हे जाता है, कीड़े (कृमि) नष्ट हो जाते हैं। यह 10-15 दिन लें।
    अदरक-  (1)  पिसी हुई सौंठ एक ग्राम, जरा-सी हींग और सेंधे नमक की फँकी गर्म पानी से लेने से पेट-दर्द ठीक हो जाता है।
    (2) पिसी हुई सौंठ और सेंधा नमक एक गिलास पानी में गर्म करके पीने से पेट-दर्द, कब्ज, अपच ठीक हो जाती है।
    हरड़- हरड़ का चूर्ण एक चम्मच गर्म पानी से फँकी लेने से पेट का दर्द ठीक हो जाता है। यदि सप्ताह में दो बार इसी प्रकार हरड़ सेवन करें तो पेट का पाचन-संस्थान ठीक रहता है। 
    अमरूद- पेट-दर्द में अमरूद की कोमल पत्तियाँ पीस कर पानी में मिलाकर पीने से आराम होता है।
    लहसुन- लहसुन का रस 5 बूँद नमक के साथ पिलाने से पेट-दर्द ठीक हो जाता है।
    धनिया- (1)  पेट-दर्द में धनिये का शर्बत हितकारी है। दो चम्मच धनिया एक कप पानी में गर्म करके पीयें।
    (2) बालक के पेट-दर्द, आँव, बदहजमी हो तो एक चम्मच धनिया और चैथाई चम्मच सौंठ एक कप पानी में उबाल कर पिलायें।
    पोदीना- (1)  3 ग्राम पोदीना, जीरा, हींग, काली मिर्च, नमक- इन सबको पीस कर गर्म पानी से लेने से पेट-दर्द ठीक हो जाता है।
    (2) सूखा पोदीना और चीनी समान मात्रा में मिलाकर दो चम्मच की फँकी गर्म पानी मिलाकर पीने से पेट-दर्द ठीक हो जाता है।
    हींग- हींग को गरम पानी में घोलकर नाभि के आस-पास लेप करें तथा भुनी हुई हींग एक बाजरे के दाने के बराबर किसी चीज के साथ खिलायें। इससे पेट-दर्द में आराम होता है। यदि पेट-दर्द वायु रूकने से हो तो दो ग्राम हींग आधा किलो पानी में उबालें। चैथाई पानी रहने पर गर्म-गर्म पिला दें। हींग से बनी ऐसाफिटिडा मदरटिंचर की दस बूँद एक चम्मच पानी में मिलाकर पीने से लाभ होता है।
    मूली- मूली के रस में नमक और काली मिर्च डालकर पिलाने से पेट-दर्द ठीक हो जाता है।
    राई- राई को पानी में पीसकर, पेट पर मलमल का कपड़ा बिछाकर, लेप करें। दस मिनट बाद हटा दें। पेट-दर्द में आष्चर्यजनक लाभ होता है।
    जीरा- जीरा पीसकर शहद के साथ चाटने से पेट-दर्द ठीक हो जाता है।
    अजवाइन- (1) अजवाइन 2 ग्राम और नमक 1 ग्राम गरम पानी से देने से पेट-दर्द बन्द हो जाता है।
    (2) 15 ग्राम अजवाइन, 5 ग्राम काला नमक और आधा ग्राम हींग- तीनों को पीसकर शीषी भर लें। पेट-दर्द होने पर आधा चम्मच दो बार गरम पानी से लें।
    (3) 2 चम्मच अजवाइन, 8 चम्मच जीरा, 2 चम्मच काला नमक- सब पीस कर शीषी भर लें। एक गिलास पानी में दो चम्मच यह चूर्ण और नीबू निचोड़ कर मिला कर पीयें। पेट-दर्द में लाभ होगा। यह अपच, गैस से हो रहे दर्द में लाभ करता है।
    तुलसी- तुलसी और अदरक के रस को सम भाग लेकर गर्म करके पीने से पेट-दर्द में लाभ होता है। 12 ग्राम तुलसी का रस पीने से पेट की मरोड़ ठीक हो जाती है।

    Pet Dard| Stomach Pain Treatment Urdu|Gharelu ilaj|desi Upchar| Ayurevdic Treatment 

    Pet-dard Gharelu Upchar

    Pet mein prayah dard hota rehta hai. pet mein dard hone ke anek karan hote hai. samanytya pet mein dard bhojan na pachne se hota hai. pet mein kishi bhi prakar ka dard ho, bottle mein gerem pani bharker sekne se aram milta hai. jab tak pet-dard achi tarah saant na ho jaye tab tak khane ko kuch nahi dena chahiye. sodawater peena acha hai. chikitsah karan aur dard ke nidaan ke anushar karni chahiye.
    Methi- 2 chamach dana methi mein namak subah-saam 2 baar gerem pani se fanki lene se pet-dard theek ho jata hai. yeh 10-15 din le.
    Saunf- saunf aur sendha namak milaker pessker 2 chamach gerem pani se fanki le.
    Kali mirch- kali mirch, hing, sauth saman matra mein pessker subah-saam gerem pani se adha chamach fanki le.
    Lal mirch-  pessi hui lal mirch gud mein milaker khane se pet-dard mein labh hota hai.
    Namak- ek gilass pani mein adha chamach namak milaker peene se pet-dard mein labh hota hai. gerem pani mein namak milaker peene se sareer mein vyaas anavashyak tatv bhi nikal jate hai.
    Ilaichi choti-  pet-dard mein 2 ilaichi pess ker sehed mein mila ker chatne se labh
    hota hai. 
    Dalchini- dalchini gas se hue pet-dard ko door karti hai. ishka alph matra mein prayog karen. adhik matra mein hanikarak hai.
    Coffee- khane-peene se hone wala pet-dard, afeem khane se hui pet ki gadbad aur dard coffee peene se door hota hai. yeh bhojan ke baad piyen.
    Pani- pratah chai jaise gerem pani ka gilass peene se kabz, badhajmi door hoti hai. ushme neembu nichod ker lene se pet mein sadan, gas door hoti hai. pet-dard door hota hai.
    Anar- anar ke daano per kali mirch aur namak daal ker chusen. isshe pet-dard band ho jata hai. kam-se-kam 10 din le.
    Chach- pet mein dard bhukhe hone per ho to chach peene se dard theek ho jata hai.
    Sahed- yadi kishi cheez ke khane se pet-dard ho jaisa ki prayah pet-dard ke rogi puchne per batate hai ki pet-dard khane-peene se badta hai to kuch din sehed sevan karne se labh hota hai.
    Neembu- (1) 12 garam neembu ka rass, 6 garam adrak ka rass aur 6 garam sehed ek pani mein milaker peene se pet-dard theek ho jata hai.
    (2)  neembu ki faank mein kala namak, kali mirch aur jeera bharker gerem karke chushne se pet ka dard theek ho jata hai, keede (krami) nast ho jate hai. yeh 10-15 din le.
    Adrak- (1)  pessi hui sauth ek garam, jara-si hing aur sendhe namak ki fanki gerem pani se lene se pet-dard theek ho jata hai.
    (2)  pessi hui sauth aur sendha namak ek gilass pani mein gerem karke peene se pet-dard, kabz, apach theek ho jati hai.
    Haran- haran ka churan ek chamach gerem pani se fanki lene se pet ka dard theek ho jata hai. yadi sptah mein 2 baar ishi prakar haran sevan karen. to pet ka pachan-sansthan theek rehta hai.
    Amrood- pet-dard mein amrood ki komal pattiyan pess kar pani mein milaker peene se aaram hota hai.
    Lehsun- lehsun ka rass 5 boond namak ke sath pilane se pet-dard theek ho jata hai.
    Dhaniya- (1) pet-dard mein dhaniye ka sarbat hitkari hai. 2 chamach dhaniya ek cup pani mein gerem karke piyen.
    (2) balak ke pet-dard, aanv, badhajmi ho to ek chamach dhaniya aur chauthai chamach sauth ek cup pani mein ubaal ker pilayen.
    Pudina- (1) 3 garam pudina, jeera, hing, kali mirch, namak- in sabko pess ker gerem pani se lene se pet-dard theek ho jata hai.
    (2)  sukha pudina aur chini saman matra mein milaker 2 chamach ki fanki gerem pani milaker peene se pet-dard theek ho jata hai.  
    Hing- hing ko gerem pani mein gholker naabhi ke ass-pass lep karen aur bhuni hui hing ek baazre ke daane ke baraber kishi cheej ke sath khilayen. isshe pet-dard mein aaram hota hai. yadi pet-dard vayu rukne se ho to 2 garam hing aadha kilo pani mein ubalen. chauthai pani rehne per gerem-gerem pila de. hing se bani aishafitida madartinchar ki 10 boond ek chamach pani mein milaker peene se labh hota hai.
    Mooli- mooli ke rass mein namak aur kali mirch daalker pilane se pet-dard theek ho jata hai.
    Raai- raai ko pani mein pessker, pet per malmal ka kapda bichaker, lep karen. 10 minute baad hata de. pet-dard mein ascharyjanak labh hota hai.
    Jeera- jeera pessker sehed ke sath chatne se pet-dard theek ho jata hai.
    Ajwaeen- (1) ajwaeen 2 garam aur namak 1 garam gerem pani se dene se pet-dard band ho jata hai.
    (2) 15 garam ajwaeen, 5 garam kala namak aur adha garam hing- teeno ko pessker seeshi bhar le. pet-dard hone per adha chamach 2 baar gerem pani se le.
    (3)  2 chamach ajwaeen, 8 chamach jeera, 2 chamach kala namak- sab pess ker seeshi bhar le. ek gilass pani mein 2 chamach yeh churan aur neembu nichod ker mila ker piyen. pet-dard mein labh hoga. yeh apach, gas se ho rahe dard mein labh karta hai.
    Tulsi- tulsi aur adrak ke rass ko sam bhag lekar gerem karke peene se pet-dard mein labh hota hai. 12 garam tulsi ka rass peene se pet ki marod theek ho jati hai. 

    • Blogger Comments
    • Facebook Comments
    Item Reviewed: Pet Dard-Stomach Pain Treatment Rating: 5 Reviewed By: Gharelu Upay
    loading...
    Scroll to Top