• Latest News

    Gharelu Upchar. Blogger द्वारा संचालित.
    बुधवार, 20 जनवरी 2016

    Sardi Jukham Bukhar Khansi Ilaj

    Loading...

    Sardi

    Jukham

    बदलते मौसम में जुकाम  होना आजकल की एक आम समस्या है । थोड़ी सी लापरवाही और Immune system के कमजोर होने पर यह समस्या किसी को भी  हो सकती है । बेहतर है कि नाजुक हालात बनने से पहले ही जुकाम का उपचार शुरू कर दे ।  sardi bukhar ke gharelu upay
     जुकाम Jukham क्या है ?
    जुकाम Jukham  एक तरह की एलर्जी है, यह इस बात का लक्षण है कि श्वसन तंत्र में एलर्जी या इन्फेक्शन हो चुका है जिसमें नाक से पानी या बलगम निकलता है। जुकाम में हमारे श्वसन तंत्र में पस सेल्स और पानी का मिश्रण बन जाता है और इसी का नाक और गले के माध्यम से सीक्रेशन होने लगता है। 
     जुकाम Jukham कैसे होता है?
    1. जुकाम आमतौर पर सर्दी-गर्मी बढ़ने, एकदम ठंडा-गर्म खाने, ठंडे से गर्म व गर्म से ठंडे माहौल में जाने, ठंडा पानी ज्यादा पीने या बारिश में भीगने से गले में कुछ बैक्टीरिया स्टिमुलेट हो जाते हैं। ये बैक्टीरिया ही गले में इन्फेक्शन कर देते हैं और जुकाम की वजह बनते हैं।
    2. हवा में मौजूद बैक्टीरिया या वायरस जब कभी सांस के जरिए शरीर में प्रवेश करते हैं, तो एलर्जी हो जाती है।  ये बैक्टीरिया सांस लेने के सिस्टम में भी प्रभावित कर देते हैं। नतीजा यह होता है कि पानी वाले या रेशेदार सीक्रेशंस नाक से बाहर आने लगते हैं।

    Jukham Ke Lashan  


    (1) सफेद और पतला पानी निकले तो समझें कि हल्का और आम जुकाम है इससे ज्यादा  घबराने की जरुरत नहीं है।
     (2) अगर सीक्रेशंस ज्यादा  गाढ़ा हो तो समझें कि इन्फेक्शन ज्यादा  है। देरी न करे तुरन्त किसी डॉक्टर को दिखाएं।
     (3) नाक बंद हो तो वायरल व बैक्टीरियल दोनों तरह के इन्फेक्शन हो सकते हैं। वायरल इन्फेक्शन है तो स्टीम और एंटी-एलर्जिक दवा से ठीक हो जाएगा, नहीं तो एंटीबायोटिक्स लेनी होंगी।
     (4) जुकाम को पांच दिन से ज्यादा हो जाएं या साथ में खांसी, बलगम, बदन दर्द व बुखार भी हो, तो तुरन्त किसी अच्छे डॉक्टर से इलाज करवाये।

     (5) अगर पीला रेशा व सांस की दिक्कत के साथ बुखार भी हो तो बैक्टीरियल इन्फेक्शन हो सकता है । ऐसे में डॉक्टर के पास जाना चाहिए। जुखाम होने के कारण-

    Jukham Hone ke Karan

    जुखाम आमतौर पर कब्ज होने पर, सर्दी लग जाने से होता है. जुखाम सर्दी व कब्ज से  होने के निम्न कारण है -

    • अगर पेट में कब्ज है तो नागे पैर ठन्डे पानी में चलने से सर्दी जुखाम हो जाता है. 
    • बारिश में भीगने से जुखाम हो जाता है साथ ही हल्का बुखार भी आ जाता है.
    • सम में परिवर्तन की वजह से हमे जुखाम हो जाता है क्योकि शरीर इतनी जल्दी मौसम के अनकूल अपने ढल नही पाता है.
    • जाड़ो में लोग अक्सर आग के पास बैठ कर अपने को गर्म रखने कोसिस करते है. शहरो में लोग हीटर का प्रयोग करते है पर वो अक़सर छोटी पर बड़ी गलती करते है वो ठंडा या चिल्ड पानी पी लेते है जिससे  उनको सर्दी जुखाम लग जाता है.
    • चाय पीकर ठंडा शरबत या लस्सी पी ने से भी जुखाम लग जाता है.
    • सोकर उठकर तुरंत नहा लेने से भी सर्दी जुखाम जाता है.
    • व्यायाम के तुरंत बाद नहने से भी  जुखाम बहुतआसानी से हो जाता है.
    जुखाम एक आम संक्रामक रोग है. इसलिए संक्रमण से बचना चाहिए


    सर्दी जुखाम के लक्षण -

    Sardi Jukham Ke Lashan

    नया जुखाम होने पर नाक से पानी बहता है, छींक आती है, सर और शरीर भारी-भारी या गिरा-पड़ा रहता है. ननक में जलन-सी होती रहती, आँखे लाल हो जाती है, गाल भारी हो जाता है. एक-दो दिन तो नाक से पतला पानी बहता है  छींक आती है, सर और शरीर भारी-भारी या गिरा-पड़ा रहता है. ननक में जलन-सी होती रहती, आँखे लाल हो जाती है, गाल भारी हो जाता है. एक-दो दिन तो नाक से पतला पानी बहता है फिर बलगम गाढ़ा हो जाता है. कई बार नाक बंद भी हो जाती है. लेकिन जुखम३-४ दिन में ठीक भी हो जाता है.

    जुखाम का आयुर्वेदिक इलाज

    Jukham Ka Ayurvedic Upchar

    Cold Cough fever
    Sardi Jukham Illaj


    (1) Sardi bukhar ke gharelu upay - अदरक को कूटकर देसी घी में भूनकर ३-४ बार खाने से जुखाम ठीक हो जाता है. 

    (2) Sardi jukam bukhar ka gharelu ilaj - सर्दी जुखाम होने पर लहसुन को आग पर भूनकर खाना गुणकारी होता है. 

    (3) Sardi bukhar ke gharelu upay - मुँह में जल भर करके नहने से कभी जुखाम नही होता है. 

    (4) Sardi bukhar ki dawa - हल्दी का मोटा मोटा चूर्ण १० ग्राम और अजवाईन १० ग्राम दोनों को मिलकर २ कप पानी में डालकर आग में उबाल ले. इसे सोते समय पिए. २-३ दिन पीन से जुखाम ठीक हो जाता है.. इसे पीने के बाद पसीना आता है. 

    (5) Sardi jukam bukhar ka gharelu ilaj - ११ पत्ते तुलसी, २ काली मिर्च, १ छूटी सोंठ का चरण और एक चुटकी पिसा हुआ सेंधा नमक. इनको २ कप पानी में डालकर उबाल ले, जब पानी आधा कप बच जाये तब उत्तर कर चयन ले. इसे रात को सोने से पहले, बिना गर्म किये हे, पी ले. चाहे तो सुबह भी पी सकते है. गर्मीमे सर्दी लग जाने पर हुए जुखाम में बहुत असर दर है. 

    (6) Sardi bukhar ke gharelu upay -  राई के तेल को प्याज या लहसुन के साथ मिलकर थोड़ा गरम कर ले इसे पैरो के तलवो में २ मिनट मालिश से, कानो में सहन कर सहन कर सके तो थोड़ा नाक में डालने से सर का भारीपन ख़त्म होता है सर्दी जुखाम एक दम ठीक हो जायेगा. 

            (7) जिन्हे बार बार सर्दी-जुखाम होता हो, जुखाम बना रहता हो, नाक बंद रहती हो उन्हें जुखाम शुरू होने के २ दिन पहले ये नुस्खा प्रयोग करना छाए. ४ पिण्ड खौर गुठली हटकर १ ग्राम भर दूध में डाला ले, ४ काली मिर्च और एक बड़ी इलायची कूट कर डेल और आग पर पकाये. पूरी तरह से उबाल जाने पर उत्तर ले १ चम्मच सुध घी डाल ले. पिण्ड खजूर चबा चबाकर कर खाए और घुट घुट कर दूध पिए और मुँह साफ़ करके सो जाये वार्ना भाई शाहब या बहन जी दांत में कीड़े लग जायेगे फिर दांत दर्द की परेशानी शुरू, ४-५ दिन तक या जरुरत की हिसाब तक उपयोग करे ये नुखा ..ये इलाज आपकी मर्दाना शक्ति भी बढएगा.
            (8) तीन दिन तक रात को दस खजूर दूध में उबाल कर चबाकर खाए और दूध भी साथ पी जाये. सर्दी जुखाम में बहुत पुराण देसी इलाज है.

            (9) पाँच मुनक्के धोकर १०० ग्राम पानी में उबाल ले. जब पानी आधा रह जाये तो मुनक्के को चबाते चबाते पानी के पी जाये. इस नुस्खे से आपका जुखाम एक दम भाग जायेगा.
    गर्म-गर्म जलेबी दूध में उबालकर खाए और सो जाये. जुखाम कुछ घंटो एक दम ठीक. टेस्टी इलाज है जुखाम भी ठीक करिये और जलेबी भी साथ खाइये.

            (10) भाँग की पति १.५ ग्राम, गुड ३ ग्राम- दोनों को मिलकर गोली बना ले और रोगी को निगला दे. दवा खाने के बाद बिल्कु भी पानी न पिए और चुप चाप सो जाये. एक ही रात्रि में आपका सर्दी जुखाम छु-मंतर  हो जायेगा. ये आयुर्वेदिक नुस्खा थोड़ा सा नशीला है पर अंग्रजी कोल्ड के सिरप से कही ज्यादा बेहतर है.

            (11) २ ग्राम पीसी हुई सोंठ की फंकी लेकर ऊपर से ग्राम दूध पे जिए आपका जुखाम एक दम ठीक हो जायेगा.

            (12) जुखाम के साथ अगर आपको बुखार है तो गर्म पानी, शहद और अदरक रस में चुटकी भर मीठा सोडा डालकर पिला दे या पी ले और पसीना आने दे. पसीने आने के दौरान शरीर में हवा न लगने दे.आपका बुखार और जुखाम एक दम ठीक हो जायेगा

            (13) अदरक ६० ग्राम. काली मिर्ची ७ ग्राम, पुराना गुड २० ग्राम लेकर अदरक के बारीक टुकड़े कर ले, १० काली मिर्च को कूट ले फिर २५० ग्राम पानी में चला चला के ग्राम करे (औटाये). जब १/४ पानी रह जाये तो छानकर पी जाये. २-३ दिन सर्दी खांसी जुखाम ३ ठीक हो जायेगा.
    जिनको नजले जुखाम की शिकायत हो, तो वो १२ महीने धूप में या हलके ग्राम पानी से नहाये और धूप में बैठकर नहाये और नजले जुखाम में खूब फॉलो को काना चाहिए

            (14) तुलसी और अदरक का रस मिला लें। इसकी आधे से एक चम्मच मात्रा लेकर थोड़ा गर्म कर लें। जब यह ठंडा हो जाए तो इसमें आधा चम्मच शहद मिला लें और दिन में तीन बार लें। शुगर वाले लोग सिर्फ एक बूंद शहद मिलाएं।

            (15) काली मिर्च पाउडर दो चुटकी, हल्दी पाउडर दो चुटकी, सौंठ पाउडर दो चुटकी, लौंग का पाउडर एक चुटकी और बड़ी इलायची आधी चुटकी। इन सबको एक गिलास दूध में डालकर उबाल लें। इस दूध में मिश्री मिलाकर पीने से जुकाम ठीक हो जाता है। शुगर वाले मिश्री की जगह स्टीविया तुलसी का पाउडर मिला लें। यह बिना शुगर बढ़ाए मीठा स्वाद देता है। हाई बीपी व दिल के मरीज भी ले सकते हैं।

            (16) एक बड़ी इलायची पीसकर उसमें चुटकी भर हल्दी व चुटकी भर काली मिर्च मिला लें। इसे शहद, मलाई या पानी से लें।

            (17) आधा चम्मच सौंठ में चार दाने काली मिर्च के पीसकर मिला लें। इस पाउडर को शहद मिलाकर दिन में तीन-चार बार चाटें।

            (18) अदरक का रस निकालकर शहद के साथ हल्का गर्म करके लें।

            (19) काले जीरे को हल्का भूनकर सूंघने से नाक खुल जाती है।

            (20) पाव भर दूध में दस-बारह काली मिर्च व दो-तीन बालियां केसर की मिला लें। इसके बाद मिश्री मिलाकर दूध लें। -तुलसी के दस-पंद्रह पत्ते धोकर आधी कटोरी पानी में दो-चार घंटे रख दें। तुलसी का असर उसमें आ जाएगा। इस पानी को पी लें। दिन में दो-तीन बार ऐसा करें।
            (21) खसखस के दाने दो-तीन छोटे चम्मच और चार काली मिर्च को पीसकर मिला लें। इसे दूध में अच्छी तरह उबालकर पीने से फायदा होता है।
            (22) तुलसी और अदरक की चाय लें।

            (23) चाय के साथ आधी चम्मच हल्दी लें।

            (24) सौंठ, मुलहटी, काली मिर्च व पीपली का पाउडर बना लें। चौथाई चम्मच से जरा कम शहद मिलाकर दिन में दो बार चाटें। शुगर वाले इसे मलाई से लें।

            (25) 50 ग्राम भुने चने, 20 ग्राम कलौंजी व 10 ग्राम पनवाड़ी वाले चूने को पोटली में बांध लें। इसे तवे पर गम करके रात को बार-बार सूंघें। इसे किसी भी मौसम में किया जा सकता है। चूना व कलौंजी न मिलने पर सिर्फ चने भी सूंघ सकते हैं।

            (26) आधा चम्मच हल्दी गर्म कर लें। इसे एक चम्मच शहद में मिलाएं और शाम या रात को लें। एक घंटे तक पानी न पीएं। मौसमी जुकाम में यह बेहतर है। शुगर के पेशंट शहद की जगह दूध या गर्म पानी में हल्दी डाल लें।

            (27) एक चम्मच हल्दी को तवे पर गर्म करके उसका धुआं लें। आराम आ जाएगा। दिन में दो बार कर सकते हैं।

            (28) 50 ग्राम अदरक को पानी में उबालकर उसकी भाप लें। उस गर्म पानी में तौलिया भिगोकर छाती पर रखकर सिकाई भी कर सकते हैं।

            (29) एक तौला अदरक पीसकर भून लें। इसमें एक तौला गुड़ मिलाकर रात को खा लें। ऊपर से पानी न पीएं। दो-तीन दिन में आराम आ जाएगा।


    Jukham me Kya kare Kya na kare

            (1) सुबह के वक्त बिस्तर से उठकर नंगे पैर न चलें।

            (2) ठंडी चीजें जैसे दही, चावल, ठंडा पानी, आइसक्रीम, केला, चॉकलेट, दूध और फ्रिज में रखी      

       (3) चीजो से परहेज रखना चाहिए। व ज्यादा मीठा का सेवन नहीं करना चाहिए।

            (4) ठंडे से गर्म व गर्म से एकदम ठंडे वातावरण में न जाएं।

            (5) पानी घूंट-घूंट करके पीएं। इससे कफ नहीं बढ़ता।

            (6)  तालू में गंदा पानी भर जाने से भी जुकाम हो जाता है। सुबह मुंह साफ करते वक्त अंगूठे से तालू को हल्का दबाएं। यह क्रिया बैठकर करें। तालू को सीधे हाथ के अंगूठे से साफ करें।

            (7) कपड़े पहनकर सोएं, खासकर कूलर और एसी के सामने।

            (8) एलर्जी से जुकाम हो तो पुरानी चीजें जैसे पुरानी किताबें, अलमारियां, काफी समय से न पहने गए कपड़े और कालीन साफ करके रखें। इनमें बैक्टीरिया जमा हो जाते हैं।

            (9) जुकाम व फ्लू का इंफेक्शन होने पर घर में कपूर और गुगुलू जलाएं। इसके धुएं से घर का वातावरण शुद्ध होता है और वायरस दूर हो जाता है।


    Sardi Jukham Bukhar Khansi ke Karan- 

    Jukham main karan kabj hona, Sardi lag jane se hota hai. Kabj ho jane ki situation me nage pair thande pani me chalne firne se Jukham ho jata hai.
         Hme aksar Jukham, Bukhar aur Khansi Sardi lagne ki vajh se hoti. Sardi lagne ke main reason hai-
            (1) Gram jagh jaise A.C me sone bad achank uthkar thandi jagh pe chale jana jaise blakney me tahlne se sardi jukham bukhar ho jata hai.
            (2) Aag ke pass bith kar jaise ki Heater ke pass bitha kar thanda pani se Sardi Jukham bukhar khasi jarur ho jati hai
            (3) Barish me bhegne se Sardi lag jati aur Jukham bukhar khasi ho jati hai.
    Hme aksar mausam badlne par Sardi Jukham bukhar khasi ho jati hai.
            (4) Tea(chay) peekar thanda sarbat ya Chilled water pine se ya lassi pine se shartiya apko Jukham bukhar khasi jo jayegi.
            (5) Sookar uthane ke bad turant agar ap naha lete sardi lag jayegi jisse apko Jukham bukhar khasi ki bimari ho jayegi. Ye galti aksar working men aur women jarur karte hai.
            (6) Physical exercise karne bad yadi ap turant naha lete bhut tagdi Sardi lag jayegi ho skta apko hospital bhi jana pade. Aksar log gym se ane bad von aha lete hai jisse ashani se Jukham bukhar khasi ho jata hai.
    Upar diye karno se ap samjh hi gaye hoge ki achanak sharir ke temperature me change se sardi Jukham bukhar khasi ho jati hai. Sardi ke illaj se badhya hai ap isse bachne ka traika find kare.

    Sardi Jukham bukhar khasi ke Lashan-

    Naya Jukham hone par naak se pani girta hai, cheeik ati hai, sir dard(Headache) aur sharir bhari bhari sa lagta hai ya shari gira pada rahta hai sath shair me dard bhi rahta hai.
    Naak me jalan si rahti, eye red ho jati,
    Gala bhari bhari ho jata
    Kai bar naak band ho jati hai. Mostly 3-4 days me Jukham thik bhi jata hai.

    Jukham-Ayurvedic Gharelu Desi Ilaj Upchar

    Jab bhi mousam me badlaaw aata hai toh sardi-jukham hona ek bahut hi saamanya si pareshani hai, kayi baar hamari laparwahi ke kaaran bhi ham sardi-jukhaam ke shikaar ho jate hain, toh yadi aap sardi-jukhaam ke shikaar ho gaye hain to ap gharelu upchar  Sardi ke liye bahut hi kaam aayenge -
    Jukham Ka Ayurvedic Gharelu Illaj


               (1) Adrak ko koot peeskar ghee me bhunkar 3-4 bar khane se Jukham bukhar khasi thik ho jati hai.
               (2) Adrak le aur uska ras nikaal le aur shehad le, in dono ko barabar matra me milakar khaye, isse aapko Sardi Jukham me bhut  raahat milegi ye desi nuskha bhut kargar hai. Lekin dhyan rakhene ki baat jab aap isko khaye to khane ke baad pani na piye  gharelu illaj ka side effect nhi hota hai.
               (3) Gram Chano ko kapde me bandh kar sughne se Sardi Jukham thik ho jata hai.
    Ye ek desi Illaj hai. Muleti aur kaali mirch 10-10 gram le aur inhe bhuoon kar pees le. Iske baad 30 gram purane gud me mila le aur inhe achchi tarah milakar inki choti choti goliya bana le, aur taaze pani ke sath khaye  isse aapko sardi Jukham me bhut aaram milega.yeh desi illaj hai.
             (4) Sardi aur Jukham hone par Lahsun ko aage par bhunkar khane se Sardi Jukham thik ho jata hai.
             (5) Ye ek desi Illaj hai. Muleti aur kaali mirch 10-10 gram le aur inhe bhuoon kar pees le. Iske baad 30 gram purane gud me mila le aur inhe achchi tarah milakar inki choti choti goliya bana le, aur taaze pani ke sath khaye  isse aapko sardi Jukham me bhut aaram milega.yeh desi illaj hai.
             (6) Ek bahut hi asaan sa upaay hai sardi bhagane ka, pani ko garam Karen aur uski bhaap le, isse aapko bahut hi halka lagega aur aap pehle se behtar mehsoos karenge.Ye desi nuskha kafi purana hai.
             (6) Sardi ke liye gharelu upchar me ye illaj sabse achook hai. Is illaj se purane se purana sardi-jukhaam ek dum thik ho jata hai. Iske liye  aamla lete hain aur uske chilkon ko sukhakar churna banakar barabar matra me mishri mila le. Usme se 6 gram subah taaze pai se le. Isse apka sardi jukham ek dum thik ho jayega. Agar sardi lag gai jada to bhi thik ho jayegi.  Ye achook desi illaj hai.
             (7) Muh me pani bhar kar nahne se Sardi Jukham nhi hota hai.
             (8) 8 se 10 kaali mirch le aur 10 se 15 tulsi ke patte le aur phir is ki  chay(tea) banakar piye. Isse aapki sardi jukham ke sath bukhar-khansi bhi thi ho jayega. Ye ayurvedic treatment bhut asardar hai.
             (9) Haldi ka mota mota churan 10 gram aur ajvaien 10 gram dono milakar gud dalkar bhol me mila le phir ghol ko chan le. Aur sote samay is Ghol ko piye. 2-3 din me Sardi Jukham ek dum thik ho jayegi.      Isko peen eke bad pasina ata jiise bukar agr sardi me hota hai to utar jata hai. Sharir ki jakdan dur hoti hai aura gr halka halka bukar hai vo bhi dur ho jata hai. Agar apko Jukam garmi me hua hai to ye nuskha bada faydemand hai.
              (10) 8 se 10 kaali mirch le aur 10 se 15 tulsi ke patte le aur phir is ki  chay(tea) banakar piye. Isse aapki sardi jukham ke sath bukhar-khansi bhi thi ho jayega. Ye ayurvedic treatment bhut asardar hai.
             (11) 11 tulsi ki leaves (pati), 2 kali mirch, !chutki soth ka churan aur ek chutki pisa hua sedha namak le. Ise raat ko sone se pahle, bina garam kiye hi pina chaye aur chahe to ise subh bhi pee skte hai. Ye Kadha Sardi, Jukham, Sir dard(Headache), Maleria, Bukhar, Flu ke bukhar me bhut asardar hai. Tonsil se hone vale bukhar me ye Nuskha bhut kargar hai. Tonsil ke dard bhi thik karta hai.
             (12) Roz pure din me 2 se 3 long chabaye, isse bhi sardi me aaram milega aur aur muh se badbu bhi nhi ayegi.
             (13) Naak se pani agr tapkta rahta hai, kabhi kabhi khoon ata hai, Naak me funsi ho jati hai, Ya Naak me sardi bani rahi hai ya Naak hmesha bhari rati hai, Naak me jalan bani rahti hai aadi preshani me ap apna khud ka urine 2 drop dono nose ke hole me dale jab tak is trah ki samsya thik nhi ho jati.
             (14) Daily pure din me 2 se 3 long chabaye, isse bhi sardi me aaram milega aur aur muh se badbu bhi nhi ayegi.
             (15) Onion ya lahsun ko Raai ke oil me gram kare par jada mat gram karna isse pairo ke talvo me 2 min male, kano me ya naak me dale agr gram oil jitna bardast kare utna dale. Agar sir me bhari pan hai to halka namak dal le is oil me phir malish kare Sardi Jukham me bhut fayda hoga.
             (16) Roz pure din me 2 se 3 long chabaye, isse bhi sardi me aaram milega aur aur muh se badbu bhi nhi ayegi.
             (17) 2-3 boond sarso ka tel naak me daalne se sardi me turant aaraam milta hai pr tel halka garam hona chaye.
             (18) Garam pani Karen aur usme neelgiri ka tel daal kar usme bhaap le, isse bhi sardi ke sath naak bahna (Jukham) bhi thik ho jayega.
             (19) Ek chammach garam desi ghee me kaali mirch ka churan mila le aur roti ke sath isko khaye , isse sardi khatam ho jati hai aur jukham me turant rahat milti hai.
    Sarson ke tel ko garam karke use apne seene par, naak, pairo ke talwe par lagaye. Isse Sardi hai to chali jayegi.
             (20) Garam doodh me chhuhaare ubaal le ab usme thodi se kesar aur ilaichi mila le aur Isse halka garm pine se Sardi nikal jayegi apke sharir se,, isse bhi aapki sardi par asar hoga.


    • Blogger Comments
    • Facebook Comments
    Item Reviewed: Sardi Jukham Bukhar Khansi Ilaj Rating: 5 Reviewed By: Gharelu Upay
    loading...
    Scroll to Top