• Latest News

    Gharelu Upchar. Blogger द्वारा संचालित.
    सोमवार, 3 जुलाई 2017

    Veeryapusti-Gupt Rog- Shigrapatan, Dhatu Rog, Swapandosh

    Loading...

      वीर्यपुष्टि, शीघ्रपतन-Veeryapusti, Sheghrpatan 

    वीर्यपुष्टि, शीघ्रपतन क्या है 


    चिन्ता, मानसिक तनाव का पुुुुुरूषों और महिलाओं की प्रजनन क्षमता पर सीधा असर पड़ता है। इसके कारण पुरूषों में नपुंसकता, यौन सम्बन्धों के प्रति अरूचि और असामान्य शुक्राणुओं में वृद्धि हो जाती है। तनाव के कारण गर्भवती महिला और उसके गर्भ में पल रहे बच्चे पर दुष्प्रभाव पड़ता है। बच्चे का जन्म समय से पहले हो सकता है या उसका वजन कम हो सकता है। तनाव को टालने के लिए रचनात्मक सोच रखना, नियमित दिनचर्या और नियमित व्यायाम करना आवष्यक है।
    गुप्त रोग दूर करने के 33 घरेलु आयुर्वेदिक नुस्खे -Veeryapusti-Gupt Rog- Shigrapatan, Dhatu Rog, Swapandosh
    गुप्त रोग दूर करने के 22 घरेलु आयुर्वेदिक नुस्खे -Veeryapusti-Gupt Rog- Shigrapatan, Dhatu Rog, Swapandosh
     


    जब कोई पुरूष संभोग के समय स्त्री को सन्तुष्ट किए बगैर कुछ ही क्षणों में स्खलित हो जाता है तो इसे शीघ्रपतन कहते है। यह अक्सर आत्मविष्वास की कमी व हीन भावना के कारण होता है। ऐसे पुरूषों को कामुक दृष्यों व कामुक स्त्रियों को देखकर उत्तेजित नहीं होना चाहिए। 


    वीर्यपुष्टि, शीघ्रपतन के कारण-

     यह रोग स्त्री से अत्यधिक संभोग करने, हस्तमैथुन करने, जननांगों के रोग, पुष्टिकारक भोजन न करने, शराब व नषीली वस्तुओं के सेवन आदि से शीघ्रपतन रोग उत्पन्न होता है और यही शीघ्रपतन का मुख्य कारण है। 




    वीर्यपुष्टि, शीघ्रपतन के लक्षण-


    शीघ्रपतन के रोगी स्त्री से संभोग करने से पहले या कुछ ही देर में स्खलित हो जाते है। कई तो स्त्री को छूने मात्र से वीर्यपात् कर बैठते हैं। शीघ्रपतन होने के बाद पुरूष स्त्री के सामने लज्जित हो जाता है क्योंकि वह स्त्री को संतुष्ट नहीं कर पाता है। धीरे-धीरे ऐसी दषा में पुरूष कमजोर होता चला जाता है। वह स्त्री व संभोग से दूर भागने लगता है। क्योंकि शीघ्रपतन इतना बढ़ जाता है कि वह स्त्री से प्यार, चुंबन, व लिपटने मात्र से ही स्खलित हो जाता है। ऐसी स्थिति में पुरूष व स्त्री का वैवाहिक जीवन नरक बन जाता है। स्त्री को बहुत ही कष्ट झेलना पड़ता है। स्त्री, पुरूष की इस बीमारी की वजह से अन्य पुरूष से संबंध स्थापित कर लेती है और अपना वैवाहिक जीवन नरक बना लेती है। 


    उपयोगी नुस्खे-


    1 बबूल के 5-6 पत्ते व 6 ग्राम गोंद पानी में भिगोकर मसल कर उनको पानी सहित पी जाएं। ऊपर से दूध का सेवन करने से भी शीघ्रपतन रोग ठीक हो जाता है। 

    2 तुलसी के पौधे की जड़ का चूर्ण चौथाई चम्मच घी में मिलाकर लेने से वीर्य गाढ़ा होकर शीघ्रपतन दूर होता है। 


    3 रोज चाय के साथ लहसुन की 10-12 बूँदे सेवन करें और ऊपर से आधा किलो दूध पिएँ। लहसुन सेक्स सम्बन्धी सभी प्रकार के रोगों के लिए रामबाण औषधि है। 

    4 रोज सुबह के समय दो छुहारे अच्छी तरह चबाकर ऊपर से 250-300 ग्राम गाय का दूध पीने से लाभ मिलता है। 

    5 काँच के बीज व तालमखाना दोनों के 6-6 ग्राम चूर्ण दूध अथवा मिश्री के साथ सेवन करने से लाभ मिलता है।

    6 मूली के बीजों को तेल में मिलाकर औटा लें और इस तेल से शरीर की मालिष करने से शीघ्रपतन से छुटकारा मिल जाता है। 

    7 खसखस, ईसबगोल व मिश्री इन तीनों को 6-6 ग्राम की मात्रा में लेकर चूर्ण बनाकर दूध के साथ सेवन करें।

    8 2-3 चम्मच प्याज के रस में शहद मिलाकर रोज सुबह के समय खाली पेट लेने से शीघ्रपतन की समस्या से छुटकारा मिलता है।

    9 आधा चम्मच कूटा हुआ कतीरा रात को एक गिलास पानी में भिगो दे। प्रातः इसमें शक्कर मिलाकर खायें। इससे शुक्रतारल्य ठीक हो जाता है। 

    10 60 ग्राम मुनक्का धोकर भिगों दें। बारह घंटे बाद इनको खायें। भीगी हुई मुनक्का पेट के रोगों को दूर कर रक्त और वीर्य बढ़ाती है। मुनक्का धीरे-धीरे बढ़ा कर दो सौ ग्राम तक ले सकते हैं। वर्ष में इस तरह तीन-चार किलो मुनक्का खाना बहुत लाभदायक है। 

    11 जिनका वीर्य पतला है, जरा-सी उत्तेजना से ही निकल जाता है, वे 5 ग्राम जामुन की गुठली का चूर्ण नित्य शाम को गर्म दूध से लें। इससे वीर्य बढ़ता भी है। 

    12 नाषपाती शुक्रवर्धक है। 

    13 शीघ्रपतन और पतले वीर्य वालों को पाँच छुहारे प्रातः नित्य खाना चाहिए। 

    14 सिके हुए चने या भीगे हुए चने ओर बादाम की गुली समान मात्रा में खाकर ऊपर से दूध पीने से वीर्य गाढ़ा होता है। 

    15 जिनका वीर्य समभोग के आरम्भ होते ही निकल जाये वे बादाम की गुली 6, काली मिर्च 6, सौंठ 2 ग्राम, मिश्री इच्छानुसार- इन सब को मिलाकर खायें, ऊपर से गर्म दूध पीयें।  

    16 बेर वीर्यवर्धक है। 

    17 दालचीनी बारीक पीस लें। 4-4 ग्राम प्रातः व रात को सोते समय गर्म दूध से फँकी लें। इससे वीर्य वृद्धि होती है, दूध पच जाता है। 

    18 ईसबगोल, शर्बत खषखष, मिश्री- प्रत्येक पाँच ग्राम पानी में मिलाकर पीने से शीघ्र वीर्य-पतन बन्द हो जाता है। 

    19 तुलसी की जड़ या बीज पान में रखकर खाने से शीघ्रपतन दूर होता है। देर तक रूकावट होती है। वीर्य पुष्ट होता है। 

    20 तुलसी के बीज 60 ग्राम, मिश्री 75 ग्राम- दोनों को पीस लें। नित्य 3 ग्राम दूध से लें। इससे धातु दौर्बल्य में लाभ होता है। 

    21 3 ग्राम तुलसी के बीज या जड़ का चूर्ण समान मात्रा में पुराने गुड़ में मिलाकर दूध के साथ सेवन करने से पुरूषत्व की वृद्धि होती है। पतला वीर्य गाढ़ा होता है तथा उसमें वृद्धि होती है। 

    22 भीगी हुई चने की दाल में शक्कर मिलाकर रात को सोते समय खायें। इसे खाकर पानी न पीयें। इससे धातु पुष्ट होती है। 


    Veeryapusti, Sheghrpatan  Kya Hai


    Chinta, manshik tanav ka purushon aur mahilaon ki prajnan chamta per sedha asar padta hai. iske karad purushon mein napunsakta, yaun sambandhi ke prati aruchi aur asamany sukraduon mein vridhi ho jati hai tanav ke karad garbhvati mahila aur uske garbh me pal rahe bacche per dushprabhav padta hai. bacche ka janm samay se pehleho sakta hai ya uska vajan kam ho sakta hai. tanav ko talne ke liye rachnatmak soch rakhna, niymit dincharya aur niymit vyayam karna avasyak hai.

    ab koi purush sambhog ke samay estri ko santusht kiye bagair kuch hi chadon mein eskhalit ho jata hai to ise sheghrpatan kehte hai. yeh aksar aatmvishwas ki kami va heen bhawna ke karad hota hai. aise purushon ko kaamuk drashyoun va kaamuk estriyoun ko dekhkar uttejit nahi hona chahiye.


    Veeryapusti, sheghrpatan  ke karad
    -


    yeh rog estri se atyadhik sambhog karn, hastmaithun karne, jannagon ke rog, pustikarak bhojan na karne, sarab va nasheli vastuon ke sevan aadi se sheghrpatan rog utpann hota hai aur yahi sheghrpatan ka mukhya karad hai. 



    Veeryapusti, sheghrpatan  ke lachan- 


    sheghrpatan ke rogi estri se sambhog karne se pehle ya kuch hi der mein eskhalit ho jate hai. kai to estri ko chune matra se veerya paat kar baithte hai. sheghrpatan hone ke baad purush estri ke samne lajjit ho jata hai kyounki vah estri ko santust nahi kar pata hai. dheere-dheere aishi dasha mein purush kamjour hota chala jata hai. vah estri va sambhog se door bhagne lagta hai. kyounki sheghrpatan itna bad jata hai ki vah estri se pyar, chumban, va lipatne matra se hi eskhalit ho jata hai. aishi esthti mein purush va estri ka vaivahik jeevan narak ban jata hai. estri ko bahut hi kast jhelna padta hai. estri, purush ki is bimari ki vajah se anya purush se sambandh esthapit kar leti hai aur apna vaivahik jeevan narak bana leti hai.



    Upyogi nuskhe-



    1 babool ke 5-6 patte va 6 gram goand pani mein bhigokar masal kar unko pani sahit pi jayen. upar se doodh ka sevan karne se bhi seghrpatan rog theek ho jata hai.

    2 tulsi ke paudhe ki jad ka churn chauthai chammach ghee mein milakar lene se veery gada hokar seghrpatan door hota hai.

    3 roj chai ke sath lehsun ki 10-12 boonde sevan karen aur upar se adha kilo doodh piyen. lehsun sex sambandhi sabhi prakar ke rogon ke liye rambaad ausdhi hai.

    4 roj subah ke samay 2 chuhare acchi tarah chabakar upar se 250-300 gram gai ka doodh peene se labh milta hai.

    5 kanch ke beej va taalmkhana dono ke 6-6 gram churn doodh athwa mishri ke sath sevan karne se labh milta hai.

    6 muli ke beejon ko tail mein milakar auta le aur is tail se sareer ki malish karne se seghrapatan se chutkara mil jata hai.

    7 khaskhas, ishabgoal va mishri in teeno ko 6-6 gram ki matra mein lekar churn banakar doodh ke sath sevan karen.

    8 2-3 chammach pyaz ke rass mein sehed milakar roj subah ke samay khali pet lene se seghrpatan ki samasya se chutkara milta hai.

    9 adha chammach kuta hua kateera raat ko ek gilass pani mein bhigon de. pratah isme sakkar milakar khayen. isse sukrtaraly theek ho jata hai.

    10 60 gram munakka dhokar bhigon de. 12 ghante baad inko khayen. bhigi hui munakka pet ke rogon ko door kar rakt aur veery badati hai. munakka dheere-dheere bada kar 200 gram tak le sakte hai. varsh mein is tarah 3-4 kilo munakka khana labhdayak hai.

    11 jinka veery patla hai, jara-si uttejana se hi nikal jata hai, ve 5 gram jamun ki guthli ka churn nitya saam ko garam doodh se le. isse veery badta bhi hai.

    12 nashpati sukrvardhak hai.

    13 seghrpatan aur patle veery walon ko 5 chuhare nitya khana chahiye.

    14 shike hue chane ya bheege hue chane aur badam ki guli saman matra mein khakar upar se doodh peene se veery gada hota hai.

    15 jinka veery sambhog ke aarambh hote hi nikal jaye ve badam ki guli 6, kali mirch 6, sauth 2 gram, mishri ichanushar- in sabko milakar khayen, upar se garam doodh piyen.

    16 ber veeryvardhak hai.

    17 daalchini bareek pess le. 4-4 gram pratah va raat ko sote samay garam doodh se fanki le. isse veery vridhi hoti hai, doodh pach jata hai. 

    18 isabgoal, sarbat khaskhas, mishri- pratek 5 gram pani mein milakar peene se seghr veery-patan band ho jata hai. 

    19 tulsi ki jad ya beej paan mein rakhkar khane se seghrpatan door hota hai. der tak rukavat hoti hai. veery pust hota hai.

    20  tulsi ke beej 60 gram, mishri 75 gram- dono ko pess le. nitya 3 gram doodh se le. isse dhatu daurbal mein labh hota hai.

    21 3 gram tulsi ke beej ya jad ka churn saman matra mein purane gud mein milakar doodh ke sath sevan karne se purusatv ki vridhi hoti hai. patla veery gada hota hai tatha usme vridhi hoti hai.


    22 bheegi hui chane ki daal mein sakkar milakar raat ko sote samay khayen. ise khakar pani na piyen. isse dhatu pust hoti hai.



    Related Post

    • Blogger Comments
    • Facebook Comments
    Item Reviewed: Veeryapusti-Gupt Rog- Shigrapatan, Dhatu Rog, Swapandosh Rating: 5 Reviewed By: Gharelu Upay
    loading...
    Scroll to Top